“DECLINE AND FALL OF BUDDHISM (A tragedy in Ancient India) by Dr K Jamnadas.”


Dear all,

There is one magnificent  Book namely  “DECLINE AND FALL OF BUDDHISM (A tragedy in Ancient India) by Dr K Jamnadas.”  available in ENGLISH on this SAMAYBUDDHA website.

This book is very very eye opening and but problem is that this book is in ENGLISH hense maximum people who  cannot understand english and prefer HINDI, So we waht to translate this book in Hindi.We have one plan for this SANGARSH.

For One person it will be difficult but if we distribute 20 chapters among 20 people i.e. one chapter for one person then it can be done. you can use hindityping.com to type in hindi and shabdkosh.com for word meenings. Those who are interested to support on this project please comment here with your mail ID or mail us on jileraj@gmail.com. This activity will definitely enhance your ENGLISH vocabulary and skills…Let us see who really want to help Ambedkar and Buddhist mishan.

Please remember it is not only words that counts, what counts is EFFORTS you have put in MISHAN.

विरोधियों की बुराई और शिकायत करते रहने और भाषण देने से कई गुना अच्छा है की हम अपने मिशन के लिए कुछ काम करें|आओ बहुजाओं हम ये साबित कर दें की हम मिलकर अपना मीडिया खुद बन सकते हैं…

=============================================================================

 ध्यान दे:
 भगवान् बुद्ध द्वारा बताये गए मार्ग और शिक्षा को जानने के लिए  व् अनेकों बौद्ध धम्म और अम्बेडकरवाद की पुस्तकों को मुफ्त में पाने के लिएhttps://samaybuddha.wordpress.com/  पर जाकर बाएँ तरफ दिए Follow Blog via Email में अपनी ईमेल डाल  कर फोल्लो पर क्लिक करें, इसके बाद आपको एक CONFIRMATION  का बटन बनी हुए   मेल आएगी निवेदन है की उसे क्लिक  कर के कनफिरम करें इसके बाद आपको हर हफ्ते बौध धर्म की जानकारी भरी एक मेल आयेगी |भगवान् बुद्धा ने कहाँ है

“सत्य  जानने  के मार्ग में इंसान बस दो ही गलती करता है ,एक वो शुरू ही नहीं करता दूसरा पूरा जाने बिना  ही छोड़ जाता है “
भले ही हमारा मीडिया में शेयर न हो हम अपना मीडिया खुद हैं
दोस्तों अगर हम में से हर कोई हमारे समाज के फायदे की बात अपने दस साथिओं जो की हमारे ही लोग हों को मौखिक बताये या SMS या ईमेल या अन्य साधनों से करें तो केवल ७ दिनों में हर बुद्धिस्ट भाई के पास  हमारा सन्देश पहुँच सकता है | इसी तरह हमारा विरोध की बात भी 9 वे दिन तक तो देश के हर आखिरी आदमी तक पहुँच जाएगी | नीचे लिखे टेबल को देखो, दोस्तों जहाँ चाह वह राह, भले ही हमारा मीडिया में शेयर न, हो हम अपना मीडिया खुद हैं :
1ST DAY =10
2ND DAY =100
3RD DAY =1,000
4TH DAY =10,000
5TH DAY =100,000
6TH DAY =1,000,000
7TH DAY =10,000,000
8TH DAY =100,000,000
9TH DAY =1,000,000,000
10TH DAY =1,210,193,422
बौध साहित्य बहुत विस्तृत है, अकेला कोई उतना नहीं कर सकता जितना की हम सब मिल कर कर सकते हैं| ये केवल मेरे अकेले की वेबसाईट नहीं,आपकी भी है ,आपसे अनुरोध है की आप बौध धर्म पर अपने आर्टिकल हिंदी में jileraj@gmail.com पर भेजे जिसे हम आपके नाम सहित या जैसा आप चाहें यहाँ पब्लिश करेंगे| आईये किताबों में दबे बौध धम्म के कल्याणकारी ज्ञान को मिल जुल कर जन साधारण के लिए उपलब्ध कराएँ |

2 thoughts on ““DECLINE AND FALL OF BUDDHISM (A tragedy in Ancient India) by Dr K Jamnadas.”

  1. बुहत बुहुत आभारी हुँ ईस पोष्टके लिए । नेपाली भाषामे भि होसके तो बहुत अच्छा
    होगा ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s