जब भारत विश्व गुरु था वो केवल बौध काल ही था


पुरोहितवादी,सवर्ण,धार्मिक बाबा  जिस युग को भारत का स्वर्णिम युग कहते  है
जब भारत सोने की चिड़िया था जब भारत विश्व गुरु था
वो केवल बौध काल ही था जव तक्षशिला और नालंदा  जैसे विश्व विधालय सर्व साधारण के लिए खुले |
वर्ना उससे पहले ब्राह्मणों ने सारी विद्या को संस्कृत में कोड करके 
केवल अपनी कौम तक सीमित रक्खी थी, तो भारत विश्व गुरु कैसा बन सकता था, सोचिये जरा?
 
अशोक काल के स्वर्णिम युग की याद में आज भी हमारा राष्ट्रीय चिन्ह अशोक चिन्ह ही है  
 
बौध धर्म अपनाओ और भारत को उन्नत और अखंड बनाओ,
विदेशी धर्म अपनाने से देश के टुकड़े होने का खतरा है  
 
 
बुद्ध के इस सुंदर गीत को आप यू ट्यूब (you Tube)  पर सुन सकते हैं | 
 
                                     ये बुद्ध की धरती.
         ये बुद्ध की धरती, युद्ध न चाहे- चाहे अमन परस्ती | 
         ये बुद्ध की धरती, युद्ध न चाहे- चाहे अमन परस्ती |
                     ये बुद्ध की धरती-    बुद्धं सरघं गच्छामि,
                                                धम्मं सरघं गच्छामि,
                                                 संघं सरघं गच्छामि |
 
          ये बुद्ध का भारत, प्रबुद्ध भारत, पूर्ण समर्थक शांति का,
                                                 पूर्ण समर्थक शांति का —
         सम्मान बड़ा अहिंसा का यहाँ, मुंह काला निर्थक क्रांति का, 
                                          मुंह काला निर्थक क्रांति का — 
         जग वालो अमन का व्रत लेकर- जग वालो अमन का व्रत लेकर
                                           संसार संवारो भ्रान्ति का —
          है हिंसक नीती युद्ध की नीती धरो अहिंसक नीती ||
                                                 ये बुद्ध की धरती—
          ये बुद्ध की धरती, युद्ध न चाहे- चाहे अमन परस्ती | 
                     ये बुद्ध की धरती-    बुद्धं सरघं गच्छामि,
                                                धम्मं सरघं गच्छामि,
                                                 संघं सरघं गच्छामि |
 
          संसार को अपना घर समझो, गौतम ने अमर सन्देश दिया |
                                               गौतम ने अमर सन्देश दिया — 
          जियो स्वयं और जीने दो, औरों को यही उपदेश दिया |
                                               औरों को यही उपदेश दिया —
          मानव को जहां मानवता दी, मानव को जहां मानवता दी   
                                             जीवन को वही उपदेश दिया |
           है पतन की अर्थी और वह कुर्ती, आदर्शों की वुरती ||
                                                     ये बुद्ध की धरती —
           ये बुद्ध की धरती, युद्ध न चाहे- चाहे अमन परस्ती | 
                      ये बुद्ध की धरती-    बुद्धं सरघं गच्छामि,
                                                 धम्मं सरघं गच्छामि,
                                                 संघं सरघं गच्छामि |
           
            जो बुद्ध ने मानव हित में किया, उस कार्य का उत्तम क्या कहना |
                                                    उस कार्य का उत्तम क्या कहना — 
            जनहित ही उनका था जीना, जनहित ही उनका था मरना |
                                                     जनहित ही उनका था मरना —
              फिर सत्य अहिंसा शांति में – फिर सत्य अहिंसा शांति में,
                                                       क्या रिक्र हमारा हो गहना |
              यह ज्ञान की ज्योति अखंड जलती, दमके सारी जगती || 
                                                           ये बुद्ध की धरती—
               ये बुद्ध की धरती, युद्ध न चाहे- चाहे अमन परस्ती | 
               ये बुद्ध की धरती-         बुद्धं सरघं गच्छामि,
                                                धम्मं सरघं गच्छामि,
                                                 संघं सरघं गच्छामि |
                                —————————

2 thoughts on “जब भारत विश्व गुरु था वो केवल बौध काल ही था

  1. युद्ध नहीं अब बुद्ध चहिए ।
    मानव का मन शुद्ध चाहिए ॥

    सत्य, अहिंसा, विश्व बंधुता, करुणा, मैत्री का हो प्रसार।
    पंचशील अष्टांग मार्ग का पुनः जग में हो विस्तार ॥
    समता, ममता, और क्षमता, से, ऐसा वीर प्रबुद्ध चाहिए ।

    युध्द नहीं अब बुध्द चहिए ।
    मानव का मन शुध्द चाहिए ॥

    कपट, कुटिलता, काम वासना, घेर रगी है मानव को ।
    कानाचार वा दुराचार ने, जन्म दिया है दानव को ॥
    न्याय, नियम का पालन हो अब, सत्कर्मो की बुध्दि चाहिए ।

    युध्द नहीं अब बुद्ध चहिए ।
    मानव का मन शुद्ध चाहिए ॥

    मंगलमय हो सब घर आँगन, सब द्वार बजे शहनाई ।
    शस्य श्यामता हो सब धरती, मानवता ले अंगड़ाई ॥
    मिटे दीनता, हटे हीनता, सारा जग सम्रद्ध चहिए ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s