POWER OF SILENCE (मौन की शक्ति ) …Ahibaran Singh


POWER OF SILENCE (मौन की शक्ति )

मौन रहना त्याग है, तपस्या है। मौन रहने से शरीर में ऊर्जा बढ़ती है। मौन के बल से कई सिद्धियां प्राप्त कर सकते हैं। महावीर 12 वर्ष व महात्मा बुद्ध 10 वर्ष तक मौन रहने के उपरांत ज्ञान प्राप्त कर सके। महर्षि रमण व चाणक्य भी मौन के उपासक थे। मौन इस अवस्था में खतरनाक होता है जब मन में विषय-वासना का तांडव चल रहा हो और जुबान बंद हो। मौन आत्मा का श्रृंगार है। जो मौन को जान गया वह जग जीत गया। यदि लोग आवश्यकतानुसार बोलें तो 90 प्रतिशत झगड़े स्वयं खत्म हो जाएंगे। इंसान को उतना ही बोलना चाहिए जितना बोलने से काम चल जाए। ज्यादा बोलने से शरीर की ऊर्जा क्षीण होती है। जो मौन की भाषा जानता है वह शब्दों का अच्छा प्रयोग करता है। यदि व्यक्ति एक हफ्ता गंभीर मौन में बिताए तो वह एक घंटा सार्थक बोलने योग्य होता है। अधिक बोलने वालों से लोगों का विश्वास उठ जाता है। कुछ लोग च्यादा बोलकर मुसीबत मोल ले लेते हैं। सोचें-समझें, विचारें और फिर बोलें। इसका एक सूत्र यह है कि प्रतिक्रिया तभी व्यक्त करें जब ऐसा करना आवश्यक-अपरिहार्य हो जाए। बिना मांगे दी गई प्रतिक्रिया का विशेष मूल्य नहीं होता। इसलिए?जब जरूरी हो और जितना जरूरी हो, उतना ही बोलें।0
वास्तव में जगत में सारे अच्छे विचार मौन से उत्पन्न होते हैं। मानसिक शांति के लिए मौन अमृत समान है। प्राय: वाद-विवाद होने पर मन का संतुलन बिगड़ जाता है। इसका सबसे अच्छा समाधान है मौन। जिस प्रकार शरीर को स्वस्थ रखने के लिए शुद्ध भोजन व गहन निद्रा आवश्यक है उसी प्रकार मानसिक स्वास्थ्य के लिए मौन। सोने से एक घंटा पूर्व व प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में एक घंटा मौन रहकर प्रभु की शरण में चले जाएं, शांति व खुशी की अनुभूति होगी। शांत रहें, मौन रहें, खुश रहें। जो लोग मौन का महत्व समझते हैं वे अपने जीवन में कभी असफल नहीं होते, क्योंकि मौन हजार शब्दों से भी अधिक मूल्यवान होता है।

by Ahibaran Singh

http://www.facebook.com/home.php#!/ahibaran.singh.14

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s