selected letters to SAMAYBUDDHA MISHAN on 122nd JAYANTI of Bodhisattva Dr Ambedkar


14 apr as nat hol

===========from Ambedkar International Center =========================================

Dear SAMAY BUDDHA,

 
 
Hearty Jai Bhim wishes to you all on 122nd Babasaheb Dr.B.R.Ambedkar Birth Anniversary!

Once someone asked Babasaheb Dr. B.R. Ambedkar what is your message to your people, people who have no access to Education, Oppressed, Poor, Starving and Suffering from poverty and what not! Babasaheb said, my life is my Message for my People!

 
What did he mean by it! I feel, he tried to leave his life as a lesson for US ALL!
There is lot to learn from Babasaheb, his determination, his sufferings, his sacrifices, his education, his dedication, his commitment, his undying spirit and never say die attitude etc!
Babasaheb had to bury 4 of his children at very young age because he could not provide them Medicines. He lost his wife also because he could not provide decent medicines. And friends he could not provide medicines for them because he was busy fighting for us. Busy fighting for our moms, our dads and our children! We are here because he and many of our mahapurushas gave up their very family & everything to see us all here.
Let us take inspiration from him and thousands of our brethern who believed in him who gave up their lives to give us this future we are enjoying. Let us pledge to Payback to the Society in whatever tiny, mini way we can! Please ACT!
 
We feel as Babasaheb’s followers, it is our minimum courtesy & duty to give our 10% of time, talent and treasure to take his caravan forward. We owe it to thousands & crores of villagers/ancestors who sacrificed their lives for us. 
 
Let us look that single reason which compels us to be together and forget those thousand things that may divide us. 
With high hopes and Sincere Jai Bhim salutes to each one of you!
 

http://www.youtube.com/watch?feature=player_detailpage&v=yv6aU-_9xQ0 (Babasaheb Movie in English)

 

http://www.youtube.com/watch?feature=player_detailpage&v=lgDGmYdhZvU (India Untouched – Current state of Affairs in India)

 
“Man is mortal. Everyone has to die some day or the other. But one must resolve to lay down one’s life in enriching the noble ideals of self-respect and in bettering one’s human life. We are not slaves. Nothing is more disgraceful for a brave man than to live life devoid of self-respect.” – Babasaheb Dr.B.R.Ambedkar
 
“If you ask me, my ideal would be the society based on liberty, equality and fraternity. An ideal society should be mobile and full of channels of conveying a change taking place in one part to other parts.” – Babasaheb Dr.B.R.Ambedkar

“You must abolish your slavery yourselves. Do not depend for its abolition upon god or a superman. Remember that it is not enough that a people are numerically in the majority. They must be always watchful, strong and self-respecting to attain and maintain success. We must shape our course ourselves and by ourselves.” – Babasaheb Dr.B.R.Ambedkar

Sabhiko Babasahab ka janam din bahut bahut mubarak ho!   

Sincere Regards,

Sandeep & AIC Team

secretary@ambedkarinternationalcenter.org

 ————————————————————————————————————————————————

================Lyric written by Sakya Mohan:========================================

Sakya Mohan wrote a lyric in English on our Liberator Babasaheb, when he came to USA in 2008. 

 

Indomitable Leader

 

Indomitable leader Ambedkar

The leader of Dalits

Redeemer of the Dalits

We call him Babasaheb

The Father of Dalits!

            Quit hinduism

            Quit casteism

            Quit racism

            Ours is humanism

 

Voice of Babsaheb

Echoed in caste-India

Speech of Babasaheb

Annihilated hindu dharma

Writings of Ambedkar

Educated Untouchables

You know His own life mission

It was our liberation!

Quit hinduism

            Quit casteism

            Quit racism

            Ours is humanism

 

After writing constitution

He said He’ll burn it

He was born a hindu

He never died a hindu

He reached the root of Buddha

Along with lakhs of Dalits

He broke the ribs of casteism

Defeated Gandhi hinduism!

            Quit hinduism

            Quit casteism

            Quit racism

            Ours is humanism

 

 In Dhamma,

Sakya Mohan

Philadelphia

********************************************************************************************************

==========================Dr S.L. Dhani (IAS-r)==============================

India officially celebrates the 122nd birth anniversary of Bharat Ratna Babasaheb Dr. B R Ambedkar, who was the first Law Minister of Independent India and the Chief Architect of Constitution of India, who was instrumental in conferring human rights on about 20 % population of India comprising the Depressed Classes or modern Dalits which constitute the weakest sections of India.

dr SL DhaniAnalytically speaking, each of the weaker sections is much higher than every stronger section of India in absolute sense and on human scale.

Each weaker section respects humanity but the latter can worship animals and hates such of the human beings who are weak and meek because of the exploitative and oppressive philosophy and practices of the latter, which are still being perpetrated in the name of religion, God and fake spirituality, against the spirit of Constitution.

Unabated atrocities and organised rapes of the women of Dalits, the weakest sections of Hindu India are still being reported even from the states which are being ruled by Congress Party, which is heading UPA government at the Centre and still the concerned governments are claiming that they are running on Constitutional lines.

None of the widely acknowledged uppermost classes or castes has ever been able to produce a single person, through the ages, like Babasaheb Dr. B R Ambedkar, who equals the best qualities of head and heart of his.

It is an act of sheer ingratitude that the democratic India has neglected him and the Constitution of India, framed by him as its chief architect, on the voluntary request of the Congress government even when he had himself never been a member of that party and had been its worst opponent by maintaining that Indian National Congress, which claims to have won freedom of India, had been a Brahmin-Bania Combine or a syndicate of temple worshippers and traders.

The condition of Dr. Ambedkar’s exhibits in his Memorial being shown in a Video today on Facebook is one of the unpardonable proofs of neglect of Dr. Ambedkar and the values he cherished.

No civilized country can respect another country from heart who does not respect its own Constitution and its chief architect.   

        

Dr S.L. Dhani (IAS-retd.)

drslldhani185@gmail.com

IAS (R), Advocate; MA PhD LL B MDPA; Certificat​e from Cranfield School of Management​, Cranfield (UK), 1979; Recipient of President of India’s Silver Medal (1971); and of Babasaheb Dr. B R Ambedkar National Award (1985) Manvantara Theory of Evolution of Univesrse, based on Vedas and Puranas (1975); Authored Politics of Gods: Churning of the Ocaen (1984);and Hindu Scheme of Things: Socio-Poli​tical Analysis of Manusmriti (1987), debated in The Tribune,, Chandigarh​;. Published Indian Freedom Struggle New Insigh

*********************************************************************************************************

=================From Mr Ram Babu Gautam (New Jersy,America)==============================

प्रबुद्धभारत के जनक 

भारतरत्न डॉ. भीम राव अंबेडकर के 122वें जन्मदिवस पर 

           सभी को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ

 

                 झुका है आज आसमां भी

   भुलायें  कैसे तुमको जीवन जिसने जिया हमारे लिए,

   झुका है आज आसमां भी, डॉ. अंबेडकर तुम्हारे लिए |

 

लिखीं हैं जिन्होंने कहानियाँ अपनी जवानी लुटालुटाके,

उनके अपमान को भी लिखा है, इतिहास मिटामिटाके,

निशानियाँ सहज मिटतीं नहीं जो पत्थरों पे गईं हैं उभारीं

खोदके पढ़ लेंगे उनके निशां दर्द जो सहा सर कटाकटाके |

 

हम भी झुके नहीं हैं कटाने सर, बस झुके हैं अंबेडकर तुम्हारे लिए ||

पार कीं हैं तुमने डूबी कस्तियाँ अपना तनमन लुटालुटाके,

मनुस्मृति को जलाया थामनुवादी इतिहास जलाजलाके,

प्रबुद्धभारत की सोच जागी है जागा है अब सोया उदगार

तनमन से लुटे हैं पर फिर भी साथ हैं वक्त से  पीटतेपिटाते |

 

भूलना अब हमारे वश की बात नहीं किया जो अर्पण हमारे लिए ||

 

इतिहास भी इसने समझाया हमें अपमानजुल्मों से गिरागिराके,

दूध के धुले नहीं हैं ये मनुवादी समझ रहे हैं हम इनको गिनगिनाके,

धोखा और दगा पूर्वजों ने सहा पर अब तुम्हें कोई मौका मिलेगा नहीं  

लिखा है इतिहास जो भीम ने संविधान का हर प्रष्ठ ये सजासजाके |

 

अंतिम सांस तक लड़ना है बहुजनों को जैसे अंबेडकर लड़ा था हमारे लिए ||

 

फैसले जो भीम ने किये थे बहुजनों को ऊपर उठाउठाके,

दीवारों पर लिख सकेंगे शासन और कलम चलाचलाके,

दिल्ली का दर्द हमने जाना है माना कि सत्ता मिलके रहेगी 

पुराने वक्त से अब ये नई पीढ़ी लड़ेगी सब भुलाभुलाके |

 

पाना होगा वह अपनी जमीं को अधिकार जिसने दिया लड़के हमारे लिए ||

                         ————-

                  रामबाबू गौतम, न्यू जर्सी ( अमेरिका )

                       अप्रैल 13, 2013 )

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

================संजय बौद्ध, राष्ट्रिय अध्यक्ष,Dr. Ambedkar Student Front of India (DASFI)============

डॉ अम्बेडकर जयंती को राष्ट्रिय अवकाश घोषित कराने हेतु “हस्ताक्षर अभियान”
हमने 1 लाख हस्ताक्षर कराने और लक्ष्य रखा है। कृपा इस आन्दोलन में सहयोग करे और इस मुहीम को सफल बनाये।

 बाबा साहब आंबेडकर ने आपको क्या दिया ?
एडमिशन के लिए फॉर्म लेने गए, कैटेगिरी बताई और सस्ता फॉर्म लिया |
एडमिशन लेने गए, कैटेगिरी का सर्टिफिकेट लगाया और एडमिशन लिया |dasfi
जॉब लेने गए, कैटेगिरी का सर्टिफिकेट लगाया और जॉब ली |
और तो और
ये बेतुके स…वाल करने का हक भी बाबा साहब ने ही दिया है।
जब सब कुछ बाबा साहब ने दिया, तो बाबा साहब आंबेडकर के लिए लड़ाई से समय हम क्यों पीछे हटे ?
ज्यादा से ज्यादा लोग इस मुहीम को सहयोग करे और बाबा साहब के जन्मोत्सव को राष्ट्रिय अवकाश घोषित कराये।
जय भीम जय प्रबुद्ध भारत,नमो बुद्धाय

आयोजक:-
डॉ अम्बेडकर स्टूडेंट फ्रंट ऑफ़ इंडिया(DASFI)
Dr. Ambedkar Student Front of India (DASFI)
वेबसा…इट :- www.dasfi.in

संपर्क करे :-
संजय बौद्ध
राष्ट्रिय अध्यक्ष, DASFI.
ई-मेल :- sboddh@gmail.com

++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++++

selected Openions  on concern subject:

अंग्रेजों की संगती में सवर्णों को भी सदबुद्धि आई और पाखंड के अन्धकार का अहसास हुआ| अंग्रेज़ो के शासन काल में उन्नीस्वी सदी के प्रारंभ से यहाँ पुनर्जागरण काल का उदय हुआ जिसके नायक यहीं के उच्च वर्गिए लोग थे जो अँग्रेज़ी शिक्षा, संस्कृति से प्रभावित हो कर देश में बदलाव लाने को प्रयत्नशील हुए| मैं अपनी निजी जिन्दगी से कहूं तो मेरा जितना हित ब्रह्मण समाज ने किया उतना अपने समाज ने नहीं किया|ऐसे बहुत से उदाहरण मिल जायेंगे जिनकी चर्चा इस अद्याय को बेहद लम्बा कर देगा फिर भी एक उदाहरण हेतु आधुनिक युग के मौलिक निबंधकार, उत्कृष्ट समालोचक एवं सांस्कृतिक विचारधारा के प्रमुख उपन्यासकार आचार्य हज़ारी प्रसाद द्विवेदी के निम्न शब्द यहाँ प्रस्तुत हैं:

 “वह अपूर्व  समय होगा जब शताब्दीयों   से पददलित, निर्वाक जनता समुन्द्र की लहरों के सामान गर्जन से अपना अधिकार मांगेगी | उस दिन हमारी सभी कल्पनाएँ जाने क्या रूप धारण कर लेंगी जिन्हें हम भारतीय सभ्यता,हिन्दू संस्कृति आदि अस्पष्ट और भुलावे वाले शब्दों में प्रकट करते हैं |मैं हैरानी के साथ सोचता हूँ की हम में बस महान एतिहासिक घटना को सहतने का साहस है क्या ? यदि नहीं तो धैर्य और त्याग के साथ साहस बटोरना होगा,हमें उन सारी सुख सुविधाओं को जो हम अब तक भोगते आये हैं उनके लिए छोड़ना  होगा जो अब तक नागे भूखे और तृषित हैं| यदि वे समाज के पथ प्रदर्शन के लिए भी आगे आयें तो सहर्ष ही साफ़ दिल से हमें उन्हें नेतृत्व प्रदान करना होगा| हमें अपने पुरातन अहम् त्याग कर उन्हें गले लगाना होगा |आज हमारा कर्तव्य उनके प्रति दया दिखाना नहीं न्याय करना है,वे दया नहीं मांगते हैं न्याय मांगते हैं| यदि उन्हें न्याय नहीं मिला तो वे जबरन उसे ले लेंगे |”   

 सनातन धर्म के महान विद्वान् स्वामी विकेकनान्दा ने जब संसार भ्रमण किया और भारत की संकुचित विचारधरा को जब बहार की उन्नत विचारधारा से तुलना की तो उन्होंने भी माना है की सारा पुरोहितवाद बेहद नुकसानदायक है इसे ख़त्म करना चाहिएजापान और चीन जैसे बौध देशों की उन्नत सोच ने उन्हें बहुत प्रभावित किया, उन्ही के शब्दों में पढ़िए:

मेरी केवल यह इच्छा है कि प्रतिवर्ष यथेष्ठ संख्या में हमारे नवयुवकों को चीन जापान में आना चाहिए। जापानी लोगों के लिए आज भारतवर्ष उच्च और श्रेष्ठ वस्तुओं का स्वप्नराज्य है। और तुम लोग क्या कर रहे हो? … जीवन भर केवल बेकार बातें किया करते हो, व्यर्थ बकवाद करने वालो, तुम लोग क्या हो? आओ, इन लोगों को देखो और उसके बाद जाकर लज्जा से मुँह छिपा लो। सठियाई बुध्दिवालो, तुम्हारी तो देश से बाहर निकलते ही जाति चली जायगी! अपनी खोपडी में वर्षों के अन्धविश्वास का निरन्तर वृध्दिगत कूडाकर्कट भरे बैठे, सैकडों वर्षों से केवल आहार की छुआछूत के विवाद में ही अपनी सारी शक्ति नष्ट करनेवाले, युगों के सामाजिक अत्याचार से अपनी सारी मानवता का गला घोटने वाले, भला बताओ तो सही, तुम कौन हो? और तुम इस समय कर ही क्या रहे हो? …किताबें हाथ में लिए तुम केवल समुद्र के किनारे फिर रहे हो। तीस रुपये की मुंशीगीरी के लिए अथवा बहुत हुआ, तो एक वकील बनने के लिए जीजान से तडप रहे होयही तो भारतवर्ष के नवयुवकों की सबसे बडी महत्वाकांक्षा है। तिस पर इन विद्यार्थियों के भी झुण्ड के झुण्ड बच्चे पैदा हो जाते हैं, जो भूख से तडपते हुए उन्हें घेरकर रोटी दो, रोटी दो चिल्लाते रहते हैं। क्या समुद्र में इतना पानी भी रहा कि तुम उसमें विश्वविद्यालय के डिप्लोमा, गाउन और पुस्तकों के समेत डूब मरो ? आओ, मनुष्य बनो! उन पाखण्डी पुरोहितों को, जो सदैव उन्नत्ति के मार्ग में बाधक होते हैं, ठोकरें मारकर निकाल दो, क्योंकि उनका सुधार कभी होगा, उन्के हृदय कभी विशाल होंगे। उनकी उत्पत्ति तो सैकडों वर्षों के अन्धविश्वासों और अत्याचारों के फलस्वरूप हुई है। पहले पुरोहिती पाखंड को ज़डमूल से निकाल फेंको। आओ, मनुष्य बनो। कूपमंडूकता छोडो और बाहर दृष्टि डालो। देखो, अन्य देश किस तरह आगे बढ रहे हैं। क्या तुम्हे मनुष्य से प्रेम है? यदि हाँतो आओ, हम लोग उच्चता और उन्नति के मार्ग में प्रयत्नशील हों। पीछे मुडकर मत देखो; अत्यन्त निकट और प्रिय सम्बन्धी रोते हों, तो रोने दो, पिछे देखो ही मत। केवल आगे बढते जाओ। भारतमाता कम से कम एक हज़ार युवकों का बलिदान चाहती हैमस्तिष्कवाले युवकों का, पशुओं का नहीं। परमात्मा ने तुम्हारी इस निश्चेष्ट सभ्यता को तोडने के लिए ही अंग्रेज़ी राज्य को भारत में भेजा है संख्याशक्ति, धन, पाण्डित्य, वाक चातुर्य, कुछ भी नहीं, बल्कि पवित्रता, शुध्द जीवन, एक शब्द में अनुभूति, आत्मसाक्षात्कार को विजय मिलेगी!” source: http://hi.wikiquote.org/wiki/स्वामी_विवेकानन्द

 स्वामी विवेकानंदा ने इस विषय में कहा है

 यदि कोई भंगी हमारे पास भंगी के रूप में आता है, तो छुतही बिमारी की तरह हम उसके स्पर्श से दूर भागते हैं। परन्तु जब उसके सीर पर एक कटोरा पानी डालकर कोई पादरी प्रार्थना के रूप में कुछ गुनगुना देता है और जब उसे पहनने को एक कोट मिल जाता हैवह कितना ही फटापुराना क्यों होतब चाहे वह किसी कट्टर से कट्टर हिन्दू के कमरे के भीतर पहुँच जाय, उसके लिए कहीं रोकटोक नहीं, ऐसा कोई नहीं, जो उससे सप्रेम हाथ मिलाकर बैठने के लिए उसे कुर्सी दे! इससे अधिक विड्म्बना की बात क्या हो सकता है? आइए, देखिए तो सही, दक्षिण भारत में पादरी लोग क्या गज़ब कर रहें हैं। ये लोग नीच जाति के लोगों को लाखों की संख्या मे ईसाई बना रहे हैं।वहाँ लगभग चौथाई जनसंख्या ईसाई हो गयी है! मैं उन बेचारों को क्यों दोष दूँ? हें भगवान, कब एक मनुष्य दूसरे से भाईचारे का बर्ताव करना सीखेगा।

 वो तो शुक्र है की वे केवल दक्षिण के धर्म परिवर्तन की बात कर रहे हैं अगर उत्तर भारत की करते तो इस्लाम का भी नाम ऐसे ही लेना पड़ता|source: http://hi.wikiquote.org/wiki/स्वामी_विवेकानन्द

united we stand

2 thoughts on “selected letters to SAMAYBUDDHA MISHAN on 122nd JAYANTI of Bodhisattva Dr Ambedkar

  1. JAIBHEEM NAMO BUDDHAY, BABASHEB NE BATAYA KARYA KARNEWALE BAHOT HAI, VE KARYA BHI KAR RAHEN, PAR UNKI SANKHYA KAM HI PADTI HAI. JAB TAK MAHILAON KA YUTION KA SPECIAL SANGATHAN KARYARAT NAHI HOGA, BABAKA KARWA DHIMA DHIMA HI CHALEGA.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s