अंतराष्ट्रिय मजदूर दिवस (1-may) जिंदाबाद।


श्रमण संस्कृति अर्थात श्रम पर आधारित जीवन यापन करने वाले भारत देश के सभी मूलनिवासी भाइयों को श्रम दिवस पर हार्दिक बधाई तथा उनकी एकता भाईचारा तथा बौधिक एवं आर्थिक समृद्धि की निष्पक्ष कामना तथा आश्रम संस्कृत पर आधारित अर्थात बिना काम किये ,लोगों को मुर्ख बनाकर अपना पेट भरनेवाले परधन भोगियों को धिक्कार ।

जब भी भगवान बुद्धा देशना देते थे तो वहां उपस्थित लोगों को सम्भोदित करने के लिए कहते थे “हे श्रमणो और ब्राह्मणों….”| श्रमण शबत का मतलब अब समझे क्या ?

मजदुर दिवस पर अब्रम लिंकन का एक प्रसंग प्रेरणादायक होगा –

एक बार अब्राहम लिंकन राष्ट्रपति की हैसियत से अमेरिकी संसद में भाषण दे रहे थे. लिंकन थोडा ऊँची आवाज में बोल रहे थे ताकि सामने बैठे लोगों की अंतिम पंक्ति तक उनकी बात पहुँच सके. मगर, यह बात सामने बैठे एक सांसद महोदय को नागवार लग रही थी. वे बीच भाषण में उठ कर टोकने लगे,

“जनाब ! आप जरा धीमी आवाज में बोलिए. आपके पिता मेरे जूते सिलते थे.”

संसद में सन्नाटा छा गया. थोड़ी देर बाद अपने आप को संयत करते हुए अब्राहम लिंकन ने जवाब दिया, –

“महोदय, यह तो बताइए कि मेरे पिता ने आपके जूते कभी ख़राब तो नहीं सिले थे?”

सांसद महोदय संभले, बोले, –

“नहीं, सचमुच वे नामी कारीगर थे और बहुत बढ़िया जूता सिलते थे”.

अब लिंकन ने जवाब दिया, –

“महोदय, इसीलिए मै ऊँची आवाज में बोल रहा हूँ.”

===========
अब समय आ गया है कि भारत का अर्जक समाज भी ऊँची आवाज में बोले.

===============================================================================

मजदूर दिवस पर विशेषMay1st sm

धूप में वह झुलसता, माथे पसीना बह रहा
विषमतायें, विवशतायें, है युगों से सह रहा.

सृजन करता आ रहा है, वह सभी के वास्ते
चीर कर चट्टान को , उसने बनाये रास्ते.

खेत,खलिहानों में उसकी मुस्कुराहट झूमती
उसके दम ऊँची इमारत, है गगन को चूमती.

सेतु, नहरें, बाँध उसके श्रम से ही साकार हैं
देश की सम्पन्नता का ,बस वही आधार है.

चिर युगों से देखता आया जमाने का चलन
कागजों के आँकड़े, आँकड़ों का आकलन.

अल्प में संतुष्ट रहता, बस्तियों में मस्त है
मत दिखा झूठे सपन वह हो चुका अभ्यस्त है.workers have no country

तू उसे देने चला, दु:ख सहके जो सुख बाँटता
वह तेरी राहों के काँटे, है जतन से छाँटता.

लग जा गले तू आज, झूठी वर्जनायें तोड़ कर
वह सृजनकर्ता,नमन कर हाथ दोनों जोड़ कर.

वह सृजनकर्ता,नमन कर हाथ दोनों जोड़ कर
वह सृजनकर्ता,नमन कर हाथ दोनों जोड़ कर.

अरुण कुमार निगम

 

One thought on “अंतराष्ट्रिय मजदूर दिवस (1-may) जिंदाबाद।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s