व्यंग ;- “ऑफिस में जब से सभी कर्मियों का अभिनंदन जय भीम से करना शुरू किया है……”


पप्पू के पापा ने ऑफिस में जब से सभी कर्मियों का अभिनंदन जय भीम से करना शुरू किया है. ज्यादातर साथी कर्मी या तो पापा की ओर मुहँ भी नहीं करते या फिर उनका कोई उत्तर ही नहीं रहता और तो और महिला कर्मियों ने तो उनसे बात करना भी लगभग खत्म सा कर दिया है. हद तो तब हो गयी जब बाबा की दी हुई भीख से सिर तान कर बैठने वाले उनके बॉस ने तो उलटा उन्हें ऑफिस में राजनीतिक माहोल उत्पन्न करने के लिए नोटिस भी दे डाला. जबकि स्वयं वे कभी पेट्रोल के दाम वृद्धि पर, सांप्रदायिक दंगों पर, तो कभी महिलाओं के उत्पीडन पर अलग अलग दलों को कोसते हुए ठाट से सभी पर रॉब झाड़ते रहतें हैं.पापा के चहरे की परेशानी भांपकर पप्पू ने पापा को हिन्दू कोड बिल पर आने वाले एपिसोड के बारे में बताया. तब पापा के चहरे की मुस्कान ने मुझे जय भीम से उनके अन्दर आयी ताकत के असर को समझा दिया.अगले ही दिन पापा ने ऑफिस के नोटिस बोर्ड पर एपिसोड के प्रसारित होने की पूरी जानकारी लिख कर शेयर कर दी.एपिसोड के प्रसारित होने के अगले दिन ऑफिस की महिला कर्मियों ने बाबा साहेब की एक तस्वीर लेकर ऑफिस में लगा दी, जिस पर ऊपर कुछ इस प्रकार लिखा हुआ था.”For a successful revolution it is not enough that there is discontent. What is required is a profound and thorough conviction of the justice, necessity and importance of political and social rights.”-Dr Bhimrao Ramji Ambedkarपापा के ऑफिस पहुँचने पर आज उन्हीं महिलाओं ने पापा का जय भीम बोल कर अभिनंदन किया. फिर बॉस के आने पर पापा के साथ साथ सभी महिलाओं ने भी जोर से जय भीम बोल कर उनका भी अभिनंदन किया, तो पलट कर बॉस ने पूछा ये जय भीम का मतलब क्या है.

पापा ने कहा जय भीम की खोज बाबा के एक सिपाही बाबू एल. एन. हरदास ने की थी, जिसका का मतलब है, समानता, स्वाभिमान, सम्मान, स्थापित करने वाला माउंट एवरेस्ट की तरह का शिखर.

महिलाओं ने भी कहा समस्त भेदभाव, उत्पीड़न और शोषण को खत्म करने की ताकत का सूत्र.

बॉस के सिर पर इस हथोड़े की चोट ने तो उनका ही नहीं सभी साथियों का सिर हमेशा के लिए बाबा साहेब के सामने झुकने को मजबूर कर दिया, और मुझे अपना सिर ऊँचा रख कर बात करने लायक बना दिया.

घर पर भी पप्पू, अपनी छोटी बहन पिंकी को भी अब तुतलाती भाषा में दय भीम बोलने का अभ्यास कराने लगा है.

हाँ, इधर मेरे भी सभी दोस्तों ने मुझे पोस्ट पर जय भीम लिख कर एवं शेयर करके अपना सहयोग देना जारी रखा है. जय भीम

One thought on “व्यंग ;- “ऑफिस में जब से सभी कर्मियों का अभिनंदन जय भीम से करना शुरू किया है……”

  1. Dear Sir Firstly Jay Bhim & ye satya hay kya ? kindly Reply of G K “पापा ने कहा जय भीम की खोज बाबा के एक सिपाही बाबू एल. एन. हरदास ने की थी, जिसका का मतलब है, समानता, स्वाभिमान, सम्मान, स्थापित करने वाला माउंट एवरेस्ट की तरह का शिखर.”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s