बौद्ध धम्म में छः प्रकार की पारमिताएँ …Team SBMT


छः प्रकार की पारमिताएँ

पारमिताएँ मुख्य रुप से छः प्रकार की होती हैं –

1) दान-पारमिता : दूसरों के हित के लिए अपना स्वत्व छोड़ने का नाम है, दान। दान-पारमिता तीन बातों से होती है :-

* जब दान के पात्र की कोई सीमा नहीं रहती। प्राणीमात्र दान का पात्र बन जाता है।
* जब देने की वस्तु की कोई सीमा नहीं रहती। मनुष्य अपना सबकुछ दूसरों के हित में लगाने को तैयार हो जाता है।
* जब दान के बदले में कुछ भी पाने की आकांक्षा नहीं रहती।

2) शील-पारमिता : ‘शील’ यानी सदाचार। अहिंसा, सत्य आदि नैतिक नियमों को चोटी पर पहुँचाने का नाम है, शील-पारमिता। हिंसा न शरीर से होनी चाहिए, न वचन से, न मन से। इसी तरह दूसरे नियमों का पूरा-पूरा पालन होना चाहिए।3) शांति-पारमिता : ‘शांति’ यानी क्षमा, सहनशीलता। चाहे जितना कष्ट आए, धैर्य न छोड़ना, विचलित न होना। मरने जैसा कष्ट होने पर भी शांति से उसे झेल लेना शांत- पारमिता है।

4) वीर्य-पारमिता : ‘वीर्य’ यानी उत्साह। अशुभ को छोड़कर पूरे उत्साह के साथ आगे बढ़ने का नाम है, वीर्य-पारमिता।

5) ध्यान-पारमिता : ‘ध्यान’ यानी किसी एक वस्तु में चित्त को एकाग्र करना। चित्त जब पूरी तरह वश में हो जाए, तो ध्यान-पारमिता सिद्ध होती है।

6) प्रज्ञा-पारमिता : ‘प्रज्ञा’ यानी सत्य का साक्षात्कार होना। चित्त जब निर्मल हो जाता है, तब प्रज्ञा की प्राप्ति होती है। निर्मल चित्त से ही सत्य के दर्शन होते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s