उत्तर प्रदेश में मैनपुरी शहर से पांच किलोमीटर दूर स्थित ग्वालटोली गांव में खेत की खोदाई में भगवान बुद्ध की मूर्ति समेत एक दर्जन प्राचीन दुर्लभ मूर्तियां निकली हैं।…khabar dainik jagran newspaper


UP mainpuri gwaltola buddha moorti nikliउत्तर प्रदेश में मैनपुरी शहर से पांच किलोमीटर दूर स्थित ग्वालटोली गांव में खेत की खोदाई में भगवान बुद्ध की मूर्ति समेत एक दर्जन प्राचीन दुर्लभ मूर्तियां निकली हैं। इनमें कई खंडित हैं। पीले पत्थर की बनीं मूर्तियां पहली शताब्दी की होने की संभावना है।

निकटवर्ती अस्योली गांव पर शोध करने वाले चौधरी चरण सिंह महाविद्यालय, सैफई के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. रक्षपाल सिंह बताते हैं कि पहली शताब्दी में राजा कनिष्क का शासनकाल था। उस समय अश्वघोष नामक बौद्ध भिक्षु थे। उन्हीं ने इलाके में बौद्ध स्मारक का निर्माण कराया था।

ग्वालटोली निवासी मनोज यादव ने अपने खेत की मिट्टी ईंट भट्ठे वालों को बेच दी है। चार दिन से मिट्टी की खोदाई चल रही थी। पांच फुट खोदाई करने पर भगवान बुद्ध की खंडित मूर्ति निकली। खबर फैली, तो भीड़ जुट गई। ग्रामीणों ने मिलकर मूर्ति बाहर निकाली। करीब एक कुंतल वजन की मूर्ति पीले पत्थर की बनी है। मूर्ति का सिर खंडित है।

एक मूर्ति बाहर निकलने के बाद ग्रामीणों ने खेत में आसपास खोदाई कराई तो तीन दिन में एक दर्जन मूर्तियां निकलीं। कुछ मूर्तियों को ग्रामीण उठा ले गए, तो कुछ को गांव के ही मंदिर में रखकर पूजा-पाठ शुरू कर दिया गया। बीते वर्ष अक्टूबर में एक खेत की खोदाई के दौरान शिव परिवार की मूर्तियां ग्वालटोली के पड़ोसी अस्योली गांव में निकली थीं।

– See more at: http://naidunia.jagran.com/national-rare-statue-of-the-first-century-came-in-mainpuri-463864#sthash.nJ3aWDT7.dpuf

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s