भगवान बुद्ध का अंतिम भोजन—(कथा–12)…ओशो


Buddha30भगवान बुद्ध के आखिरी छ: महीने बहुत पीडा में बीते। पीड़ा में उनकी तरफ से,जिन्‍होंने देखा; बुद्ध की तरफ से नहीं। बुद्ध एक गांव में ठहरे थे। और उस गांव के एक शुद्र ने,एक गरीब आदमी ने बुद्ध को निमंत्रण दिया की मेरे घर भोजन करो। भगवान ने उसका निमंत्रण स्‍वीकार कर लिया। सुबह-सुबह जल्‍दी आ गया था। वह जानता था उसका नम्‍बर बाद में तो नहीं आ पायेगा। इससे पहले और लोग निमंत्रण न दे वह बहुत सुबह उठ भगवान की गंध कुटी के सामने आ बैठा। उस की बड़ी तमन्‍ना थी की जीवन में एक बार भगवान उसके यहाँ भी भोजन ग्रहण करे।

वह निमंत्रण दे ही रहा था कि इतनी देर में गांव को कोई धन पति ने आकर भगवान को कहा कि आज का भोजन निमंत्रण मेरे ग्रहण करें। भगवान बुद्ध ने कहा धनपति आज का तो निमंत्रण आ चुका है। इस प्रेमी ने आज अपने घर बुलाया हे। उस अमीर ने उस आदमी की तरफ देखा और कहां, इस का निमंत्रण, शायद इस के पास तो अपने खाने के लिए भी कुछ नहीं होगा। इसके तो खुद कई-कई फाँकें पड़े होते है। तब उसने उसकी तरफ देख कर उससे पूछा क्‍या में कुछ गलत कहा रहा हूं। उस व्‍यक्‍ति ने गर्दन हिला कर हामी भर दी। इस के पास कुछ तो खिलाने के लिए होगा तभी तो यह इतनी दुर से मुझे निमंत्रण देने के लिए आया है। जो भी हो इसके पास जो भी होगा अब निमंत्रण तो इसी का स्‍वीकार कर चूका हूं। और इसी के घर भोजन करूंगा। जाओ ग्रह पति आप भोजन की तैयारी करो आज का भोजन आपके यहाँ है।

भगवान बुद्ध गये। उस आदमी को भरोसा भी न था कि भगवान उसके घर पर भी कभी भोजन ग्रहण करेने के लिए आएँगे। उसके पास कुछ भी न था खिलाने को वस्‍तुत:। वह अमीर ठीक कह रहा था। रूखी रोटिया थीं। सब्‍जी के नाम पर बिहार में गरीब किसान वह जो बरसात के दिनों में कुकुरमुत्‍ते पैदा हो जाते है—लकड़ियों पर, गंदी जगह में—उस कुकुरमुत्‍ते को इकट्ठा कर लेते है। सुखाकर रख लेते है। और उसी की सब्‍जी बनाकर खाते हैं। कभी-कभी ऐसा होता है कि कुकुरमुत्‍ते पायजनस हो जाता है। जहरीला हो जाता है। सांप वगैरा के गुजरने के कारण। वह ऐसी जगह पैदा हो गये हो जहां जहर मिल गया। तो कुकुरमुत्‍तों में जहर था।

बुद्ध के लिए उसने कुकुरमुत्‍ते की सब्‍जी बनाई। वह एक दम कड़वे जहर थे। मुंह में रखना मुश्‍किल था। लेकिन उसके पास एक ही सब्‍जी थी। तो भगवान बुद्ध ने यह सोच कर कि अगर मैं कहूं कि यह सब्‍जी कड़वी हे। तो यह कठिनाई में पड़ेगा; उसके पास कोई दूसरी सब्‍जी नहीं है। वह उस ज़हरीली सब्‍जी को खा गये। उसे मुंह में भी रखना कठिन था। पूरी को मांग कर की बहुत सुस्‍वाद बनी है। कह कर खा गये ताकि इसे बाद में भी पता न चले कि यह ज़हरीली सब्‍जी थी। खूब आनंद ले कर खाते रहे।

जैसे ही भगवान बुद्ध वहां से निकले, उस आदमी ने जब सब्‍जी को चखा तो वह तो हैरान हो गया। यह क्‍या यह तो कड़वी जहर सब्‍जी है। वह भागा हुआ आया और उसने कहा कि आप क्‍या करते रहे? वह तो जहर है। वह छाती पीटकर कर रोने लगा। लेकिन बुद्ध भगवान ने कहा, तू जरा भी चिंता मत कर। क्‍योंकि जहर मेरा अब कुछ भी नहीं बिगाड़ सकेगा। क्‍योंकि मैं उसे जानता हूं जो अमृत है। तू जरा भी चिंता मत कर घर जा।

लेकिन फिर भी उस आदमी की चिंता तो हम समझ सकते है। कि उससे अनजाने में क्‍या हो गया उसे अंदरूनी तोर पर कितनी गिलानि पीड़ा पश्‍चाताप हो रहा होगा कि उसने ये कर दिया। पर उस आदमी को भगवान ने कहां तू धन्‍य भागी है। तुझे पता नहीं, तू खुश हो, तू सौभाग्‍यशाली है। क्‍योंकि कभी हजारों वर्षों में बुद्ध जैसा व्‍यक्‍ति पैदा होता है। दो ही व्‍यक्‍तियों को उसका सौभाग्‍य मिलता हे। पहला भोजन कराने का अवसर उसकी मां को मिलता है और अंतिम भोजन कराने का अवसर तुझे मिला है। तू सौभाग्‍यशाली है; तू आनंदित हो। ऐसा फिर सैकड़ों हजारों वर्षों में कभी कोई बुद्ध पैदा होगा और ऐसा अवसर फिर किसी को मिलेगा। उस आदमी को किसी तरह समझा-बूझकर लौटा दिया।

बुद्ध के शिष्‍यों ने जीवन वैद्य को बुला कर जब पता कराया की भगवान की तबीयत क्‍यों खराब रहती है। तब उसने बताया कि इन्‍हें जहर दिया गया है। तब भगवान के अन्‍य भिक्षुओं के साथ आनंद रोने लगा। की वह आदमी तो हत्‍यारा है, उसने आपको जहर दिया है। भगवान ने कहा: ऐसी बात भूल कर भी मत कहना। अन्‍यथा उस आदमी को कोई जीवित नहीं रहने देगा। आनंद तुम गांव में लोगों को भेज कर यह डोंडी पिटवां दो ये खबर करवा दो की दो ही आदमी परम सौभाग्‍यशाली होते है, जिसने पहला भोजन बुद्ध को कराया और जिसने अंतिम भोजन बुद्ध को कराया।

मरने के वक्‍त तक सब लोग यही कहते रहे की आप एक बार तो कहा देते की यह सब्‍जी कड़वी है विषाक्‍त है। तब हम पर यह वज्रपात अकस्‍मात न गिरता। आपने भी यह क्‍या किया। और भगवान केवल मुस्कुराए और कहने लगे जानते है। यह तो निमित है कैसे जाना कोई तो बहाना होना ही था। यह वज्रपात गिरना तो था ही, इससे क्‍या फर्क पड़ता है कैसे गिरा। जहां तक मेरा संबंध है मुझ पर कोई वज्रपात नहीं गिरा क्‍योंकि मैने उसे जान लिया है जो अमृत हे। जिसकी कोई मृत्‍यु नहीं होती।

ओशो

गीता दर्शन भाग-3,

अध्‍याय-6, प्रवचन—11

http://oshosatsang.org/2010/07/17/%E0%A4%AD%E0%A4%97%E0%A4%B5%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%AC%E0%A5%81%E0%A4%A6%E0%A5%8D%E0%A4%A7-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%AE-%E0%A4%AD%E0%A5%8B%E0%A4%9C%E0%A4%A8/

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s