रोहित वेमुळे को न्याय दिलाने के लिए आरएसएस मुख्यालय के सामने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पुलिस के साथ मिलकर ‘बिना वर्दी वाले कई गुंडे’ बेरहमी से पिटाई कर रहे थे,ये जुल्म क्यों? एक तरफ न्याय न देना दूरसी तरफ न्याय के लिए संगर्ष करने वालों का दमन करना, ये तो लोकतंत्र नही है


https://www.facebook.com/om.sudha.7/posts/917572421673090goons beat vemula supporters1 goons beat vemula supporters2for recent updayes please visit and follow:

https://www.facebook.com/dilipc.mandal?fref=nf

रोहित वेमुळे को न्याय दिलाने के लिए आरएसएस मुख्यालय के सामने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पुलिस के साथ मिलकर ‘बिना वर्दी वाले कई गुंडे’ बेरहमी से पिटाई कर रहे थे, अब ये जवाब देहि पुलिस की है की वो कौन लोग थे ? दूसरा  शांतिपूर्वक प्रदर्शन पर लाठियां बरसाना, ये जुल्म क्यों? एक तरफ न्याय न देना दूरसी तरफ न्याय के लिए संगर्ष करने वालों का दमन करना, ये तो लोकतंत्र नही है, जनता सब देख और समझ रही है

दिल्ली पुलिस ने बेरहमी से की छात्रों की पिटाई, वीडियो वायरल

दलित छात्र रोहित वेमुला की हत्या/आत्महत्या को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों की पुलिस ने लाठी-डंडों से जमकर धुनाई की। पुलिस की इस बर्बरता का खुलासा तब हुआ जब घटना से जुड़ा एक वीडियो सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर वायरल हो गया। वीडियो के सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस की चौतरफा आलोचना हो रही है। खासबात यह है कि जिन प्रदर्शनकारियों की पुलिस ने आरएसएस मुख्य कार्यालय के समीप पिटाई की, उसमें महिलाएं भी शामिल थीं। बस्सी ने दिए जांच के आदेश
वायरल हुए इस वीडियो के बारे में पुलिस कमिश्नर बी.एस. बस्सी से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम मामले की जांच करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक जांच कमिटी का गठन किया गया है।

आरएसएस मुख्यालय के सामने पुलिस के साथ मिलकर बिना वर्दी वाले कई गुंडे भी छात्रों की बेरहमी से पिटाई कर रहे थे, अब ये जवाब देहि पुलिस की है की वो कौन लोग थे |

घटना की बारीकी से जांच करने के लिए इलाके के ज्वाइंट कमिश्नर को खुद इस कमिटी की कार्रवाई की मॉनिटरिंग करने को कहा गया है। कमिटी वीडियो में मारपीट करते दिखाई दे रहे पुलिसकर्मियों की भूमिका की जांच करेगी। लोगों ने दी तीखी प्रतिक्रिया
वायरल हुए इस वीडियो के बाद पुलिस की कार्रवाई पर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। लोगों का कहना है कि पुलिस के लिए यह कोई नई बात नहीं है। पुलिस का बर्बर चेहरा इसके पहले भी कई बार सामने आ चुका है। इस वीडियो में तो पुलिस महिलाओं के साथ भी मारपीट करती दिखाई दे रही है। वहीं दो पत्रकारों ने भी विरोध प्रदर्शन को कवर करने के दौरान खुद को पीटे जाने का आरोप लगाया है। अन्य लोगों ने भी की पिटाई
30 सेकेंड के क्लिप में पुलिस के अलावा कुछ अन्य लोग भी एक युवक को पीटते दिखाई दे रहे हैं। मारपीट करने वाले लोग कौन हैं? इस सवाल पर कमिश्नर ने कहा कि जांच के बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी। वहीं इस वीडियो में पुलिसकर्मी द्वारा एक महिला प्रदर्शनकारी को बालों से घसीटते और जमीन पर गिराते देखा जा सकता है। महिला पुलिसकर्मी नही थीं मौके पर
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ज्वाइंट एक्शन कमिटी फॉर सोेशल जस्टिस द्वारा आयोजित प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए महिला पुलिसकर्मियों के मौके पर मौजूद नहीं होने पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि महिला प्रर्दशनकारियों को देखने के बाद भी पुरूष पुलिसकर्मियों द्वारा उनके साथ मारपीट करना अस्वीकार्य है। कैमरा तोड़ने का आरोप
इस मामले की रिपोर्टिंग के दौरान कथित रूप से पीटे गए एक पत्रकार ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस के लोगों ने मेरी पिटाई करने के अलावा मेरे कैमरे भी तोड़ दिए। पत्रकार का आरोप है कि पुलिसकर्मियों को मारपीट करते हुए मैं तस्वीरें खींच रहा था तो वे भड़क गए और उन्होंने मेरे कैमरे तोड़ दिए। छात्राओं के साथ बदसलूकी
पत्रकार ने यह आरोप भी लगाया है कि पुरूष कर्मियों ने छात्राओं को पीटा, घसीटा और धक्का दिया। छात्राओं के साथ पुलिसकर्मियों ने बदसलूकी की। प्रदर्शनकारी छात्राओं व महिलाओं के साथ को काबू करने के लिए मौके पर एक भी महिला पुलिसकर्मी मौजूद नहीं थी।
वीडियो को लेकर आलोचना करते हुए आप की दिल्ली इकाई के संयोजक दिलीप पांडे ने टिवटर पर लिखा कि भारतीय राजनीति का स्तर कितना नीचे चला गया है। पुरूष पुलिसकर्मियों ने महिला प्रदर्शनकारियों को पीटा और इसमें आरएसएस समर्थक व कार्यकर्ता भी दिल्ली पुलिस के साथ शामिल थे।

source:

http://m.dailyhunt.in/news/india/hindi/live-hindustan-epaper-livehindu/dilli-pulis-ne-berahami-se-ki-chatro-ki-pitai-vidiyo-vayaral-newsid-49150989

for recent updayes please visit and follow:

https://www.facebook.com/dilipc.mandal?fref=nf

One thought on “रोहित वेमुळे को न्याय दिलाने के लिए आरएसएस मुख्यालय के सामने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पुलिस के साथ मिलकर ‘बिना वर्दी वाले कई गुंडे’ बेरहमी से पिटाई कर रहे थे,ये जुल्म क्यों? एक तरफ न्याय न देना दूरसी तरफ न्याय के लिए संगर्ष करने वालों का दमन करना, ये तो लोकतंत्र नही है

  1. शिक्षा से ज्ञान मिलता है, और ज्ञान से जिंदगी बेहतर होती है, शायद इतना तो अनपढ़ भी जानते हैं, पर क्या आप जानते हैं की शिक्षा केवल स्कूल कालेज जाने भर से नहीं मिलती इसके लिए संगर्ष करना पड़ता है| स्कूल कालेज में तो कई जाते हैं पर सफल वही होते हैं जो संगर्ष से पड़ते हैं| और हाँ ब्राह्मणवादी/पूंजीवादी काल में संगर्ष के साथ साथ बहुत सा धन भी लगता है…समयबुद्धा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s