ऊना कांड के बाद गुजरात आंदोलन का जाना माना चेहरा अम्बेडकरवादी श्री जिगनेश मेवानी से जुडी ख़बरें


jignesh-mewani

 

 

दलित परिवार की पिटाई के बाद गुजरात में एक दलित नेता उभरकर सामने आ रहा है। जो शख्स गुजरात में दलित आंदोलन को संभाले हुए है उसका नाम जिगनेश मेवानी है। जिगनेश 35 साल के हैं और गुजरात में चल रहे दलित आंदोलन का प्रमुख चेहरा हैं। जिगनेश ने इंग्लिश लिट्रेचर से ग्रेजुएशन किया है, वह पत्रकार भी रह चुके हैं। फिलहाल वह वकालत कर रहे हैं। ऊना में दलितों पर हुए अत्याचार के बाद जिगनेश ने ही दलित लोगों को समाज की गंदगी उठाने से मना किया था। इसमें तय हुआ था कि दलित समुदाय के लोग ना तो मैला उठाएंगे और ना ही मरे हुए पशुओं को लेकर जाएंगे।

गुजरात: जिग्नेश मेवानी सहित 600 सफाई कर्मचारी हिरासत में….www.nationaldastak.com

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2016-09-27 Time : 15:26:26 PM

अहमदाबाद। गुजरात में इन दिनों दलितों और मजदूरों पर प्रशासन द्वारा लगातार हमले किए जा रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण तब देखने को मिला जब गुजरात पुलिस ने राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच के अध्यक्ष जिग्नेश मेवानी और सफाई कर्मचारी के अध्यक्ष हितेन मकवाना पर क्रूरतापूर्ण प्रहार किया। वहीं 600 से अधिक कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया। इससे पहले भी जिग्नेश मेवानी को गिरफ्तार किया गया था।

आपको बता दें कि गुजरात में पिछले 36 दिनों से सफाई कर्मचारियों द्वारा खुद को स्थायी करने के लिए आंदोलन किया जा रहा है। जिसमें बाल्मीकि समाज की औरतों की संख्या सबसे ज्यादा है। आज 36वें दिन जब महिलाओं ने अहमदाबाद स्थित इन्कम टैक्स सर्किल पर सुबह 10 बजे रास्ता रोको रैली निकाली तब पुलिस ने उन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

 

सफाई कर्मचारी यूनियन अहमदाबाद के अध्यक्ष हितेन मकवाना ने कहा कि गुजरात सरकार ने हमारी मांग मानने से मना कर दिया है क्योंकि हम बाल्मीकि समाज से आते हैं। याद रहे कि पिछले कई महीनों से गुजरात में दलित स्वाभिमान की लड़ाई लड़ रहे हैं लेकिन गुजरात की भाजपा सरकार द्वारा उनकी मांगे नहीं मानी जा रही हैं।

http://www.nationaldastak.com/story/view/jignesh-mewani-and-six-hundred-sweeper-detainedin-gujrat

=====================================================================================================

दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने क्यों अपने को ‘कबाली’ कहा..naradanews

Alpna Sharma | September 23, 2016 3:57 pm

दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर ख़ुद को ‘कबाली’ बताया है। क्या आप जानते हैं ‘कबाली’ शब्द के मायने क्या हैं और ‘कबाली’ का दलित राजनीति से क्या है सरोकार ?

दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर ख़ुद को ‘कबाली’ क़रार दिया है। जिग्नेश मेवानी…गुजरात के उना में दलित अत्याचारों के ख़िलाफ़ हुए आंदोलन के दौरान एक ‘दलित नायक’ के तौर पर उभरे।

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगले महीने 1 अक्टूबर को दलितों पर हो रहे अत्याचार के विरोध में जिग्नेश मेवानी ने दिल्ली में ‘दलित स्वाभिमान संघर्ष रैली’ के दौरान रेल रोको का ऐलान किया हुआ है और ऐसे में जिग्नेश मेवानी का ख़ुद को ‘कबाली’ क़रार देना इसी संदर्भ में काफी अहम है।

इसमें कोई दो राय नहीं कि देश में जाति आधारित राजनीति का बोलबाला है और तमाम राजनीतिक समीकरण जाति के ही इर्द-गिर्द बुने जाते रहे हैं। दलित वर्ग कुछ पार्टियों का परंपरागत वोट बैंक रहा है। लेकिन अब समय के साथ-साथ दलित अधिकार और जागरूकता बढ़ रही है।

दलितों को लेकर हो रही राजनीति में कोई एक सियासी दल नहीं बल्कि सभी दल, दलित वर्ग का ख़ैरख़्वाह बताने का दावा ठोकते आए हैं। लेकिन हक़ीकत में दलित समाज आज भी उत्पीड़ित औऱ दबा-कुचला है।

दरअस्ल ‘कबाली’ शब्द का अर्थ कुछ अलग है। 60- 70 के दशक में तमिल फिल्मों से इसका रिश्ता है। उन दिनों तमिल फिल्मों के विलेन के ‘ट्टुओं’ को ‘कबाली’ बोला जाता था। कबाली को विलेन से आदेश मिलता था और वो उस आदेश की तामील करता था।

वहीं हाल ही में शब्द ‘कबाली’ नाम से कुछ समय पहले एक दक्षिण भारतीय फिल्म आई थी जिसमें यह दर्शाया गया था कि बरसों से उच्च वर्ग से उत्पीड़ित होता आया दलित वर्ग का एक शख़्स  उनके सामने नहीं झुकने का प्रण लेता है।

‘कबाली’ फिल्म में अभिनय करने वाले रजनीकांत का कैरेक्टर भी ऐसे ही मिशन पर लगे आदमी का था । फिल्म में दिखाया गया कि कई साल पहले कबालीस्वरम के साथ कुछ गलत होता है। इसी का बदला लेने के लिए वो ‘कबाली’ बन जाता है।

यही नहीं हाल ही में हुए जेएनयू चुनाव के दौरान अध्यक्ष पद उम्मीदवार राहुल सनपिंपल भी अपने को क़बाली क़रार दे चुके हैं।

राजनीतिक दृष्टि से जिग्नेश का अपने को कबाली क़रार देना इसीलिए महत्वूर्ण है कि आज का दलित, उस उच्च वर्ग की थोपी परंपरावादी सोच को नहीं स्वीकारेगा। आज वो अपने हक़ों को लेकर जागरूक है और पूरे दलित समाज को उठाने के लिए हर दलित को एक दूसरे का ‘कबाली’ यानि ‘मसीहा’ बनना होगा।

दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने क्यों अपने को ‘कबाली’ कहा

======================================================================================================

दलितों के लिए इमरजेंसी, जिग्नेश मेवानी समेत 200 युवक हिरासत में लिए गए…www.nationaldastak.com

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2016-09-16 Time : 00:09:41 AM

अहमदाबाद। देशभर के दलितों को आपातकाल जैसी हालातों से सामना करने को मजबूर होना पड़ रहा है। ताजा जानकारी के मुताबिक गुजरात दलित आंदोलन के नेता जिग्नेश मेवानी को 200 युवकों के साथ पुलिस ने हिरासत में लिया है। जिग्नेश दिल्ली से अहमदाबाद पहुंच रहे थे यहां सरदार वल्लभ भाई पटेल एयरपोर्ट पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया है।

गौरतलब है कि शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन है जिसके लिए वह अपने गृहराज्य गुजरात के दो दिवसीय दौरे पर हैं। इसके लिए उनकी पार्टी के छोटे-बड़े सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को उनके जन्मदिवस को सेवा दिवस के रुप में मनाने का पार्टी हाईकमान से फरमान सुनाया जा चुका है। यहां मोदी के एक घंटे बाद उसी एयरपोर्ट पर पहुंचने की उम्मीद थी जहां जिग्नेश पहुंचे थे। इसलिए विरोध के डर से मेवानी को पहले ही पुलिस हिरासत में लिया गया है।

उनके सहयोगी और दलित अधिकार मंच के सदस्य सुबोध परमार ने बताया कि शुक्रवार को जिग्नेश मेवानी दलित स्वाभिमान संघर्ष समिति के बैनर तले जंतर मंतर पर आयोजित एक जनसभा को संबोधित करने के बाद अपने गृहराज्य पहुंच रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी को डर है कि नजदीक एयरपोर्ट पर आयोजित सम्मान समारोह से उनके लिए समस्या पैदा हो सकती है। इसलिए उन्हें हिरासत में लिया गया है।

आपको बता दें कुछ घंटो पहले मेवानी ने मंच से घोषणा की थी कि अगर सरकार प्रत्येक दलित परिवार को पांच एकड़ जमीन देने की मांग को पूरा नहीं करती है तो एक अक्टूबर से रेल रोको आंदोलन शुरु किया जाएगा। इससे पहले दस दिवसीय दलित चेतना पदयात्रा के समापन पर और 15 अगस्त को समारोह में यह मांग की गई थी।

बीबीसी हिंदी के डिजिटल एडिटर राजेश प्रियदर्शी ने अपने ट्वीट में लिखा, दलित नेता जिग्नेश मेवानी को अहमदाबाद एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया गया है जब वह दिल्ली से यहां पहुंच रहे थे। उन्होने शनिवार को पीएम मोदी के खिलाफ प्रदर्शन बुलाया था।

सूत्रों के मुताबिक यह भी खबर सामने आ रही है कि पाटीदार समुदाय के लिए आरक्षण के नेता हार्दिक पटेल को भी  राजस्थान से गिरफ्तार किया गया है। आपको बता दें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की सभा में हार्दिक के समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन किया था जिसके बाद उनकी यह सभा फ्लॉप हो गयी थी। सोशल मीडिया यूजर्स पर भी अमित शाह की सभा में टूटी कुर्सियाों की तस्वीरें खूब वायरल हुई थी।

http://www.nationaldastak.com/story/view/gujrat-dalit-activist-jignesh-mewani-arrested-in-ahmedabad-airport

======================================================================================================

जिग्नेश मेवानी ने बनाई लेफ्ट से दूरी, कहा-आपकी राजनीति में समस्या है!….www.nationaldastak.com

Created By : नेशनल दस्तक ब्यूरो Date : 2016-09-12 Time : 19:15:41 PM

कन्नूर। प्रसिद्ध SC (दलित) कार्यकर्ता और अम्बेडकरवादी जिग्नेश मेवानी ने लेफ्ट से दूरी बना ली है। उन्होंने कन्नूर में आयोजित पत्तिकाजाठी क्षेम समिति(पीकेएस) के स्वाभिमान संगम कार्यक्रम में नहीं जाने का फैसला किया है। आपको बता दें कि पीकेएस, सीपीएम का ही एक संगठन है। उन्होंने कहा है कि सीपीएम आरक्षण के मुद्दे को लेकर गंभीर नहीं है और उनकी विचारधारा सीपीएम से मेल नहीं खाती।

गुजरात में दलित आंदोलन का प्रमुख चेहरा जिग्नेश मेवानी ने कहा कि आयोजकों ने जब मुझे इस कार्यक्रम में बुलाया था तब कहा था कि यह संगठन किसी राजनीतिक पार्टी से संबद्ध नहीं है, लेकिन बाद में मुझे पता चला कि यह सीपीएम का संगठन है।

रविवार को एक फेसबुक पोस्ट में उन्होंने कहा कि एक अम्बेडकरवादी के रूप में आरक्षण और अन्य मुद्दों पर हमारी विचारधारा केरल और अन्य राज्यों में सीपीएम की विचारधारा से बिल्कुल अलग है। मेवानी ने यह भी कहा कि वह केरल में उस किसी भी अम्बेडकरवादी समूह को ज्यादा प्राथमिकता देंगे जिसने जातिवादी समाज के खिलाफ लड़ाई लड़ी है और बाबासाहब के मूल्यों को ज्यादा तवज्जो दिया है।

http://www.nationaldastak.com/story/view/jignesh-mewani-make-distance-from-the-left

======================================================================================================

jignesh-mewani-amb

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s