बहुजन के अपने मीडिया ‘नेशनल दस्तक’ के युवा संस्थापक श्री अशोक दास का हर काम बहुजन/बौद्ध समाज के भले के लिए होता है, देखिये उनकी अपनी शादी का कार्ड जो बौद्धमय भारत मिशन को समर्पित है| प्रस्तुत हैं इस कार्ड पर NDTV के रविश कुमार के विचार | इस शादी के कार्ड की तर्ज पर समाज को अपने कार्ड बनवाने चाहिए …Team SBMT


अशोक दास की शादी का कार्ड

हमारे मित्र अशोक दास की शादी है। शादी से भी ख़ूबसूरत है उनका निमंत्रण पत्र। ऐसा कार्ड तो हमने कभी देखा ही नहीं । इस कार्ड से बिहार सरकार के पर्यटन मंत्रालय को भी आइडिया मिल सकता है। बाराती सिर्फ चमचम, बुनिया और दालमोट के चक्कर में न रह जाये इसके लिए अशोक ने कुछ और व्यवस्था की है। कार्ड के एक बड़े हिस्से पर बताया गया है कि बाराती दुआर पर पहुँचने से पहले आसपास के कैन कौन से बौद्ध पर्यटक स्थल जा सकते हैं।

अशोक ने बक़ायदा बताया है कि दिल्ली या बिहार के बाहर से आने वाले मेहमान अगर एक दिन पहले पहुँच जाएँ तो वे वैशाली, राजगीर और बोध गया जा सकते हैं। इन जगहों का महत्व और आपस की दूरी का भी वर्णन है। मुझे तो यह आइडिया शानदार लगा। इससे हम आसपास के पर्यटन स्थलों का भी प्रचार कर सकते हैं और कई दर्शनीय चीज़ों में पर्यटन की संभावना पैदा कर सकते हैं।

यही नहीं कार्ड में यह भी लिखा है कि बारात में पहुँचने के लिए रेलवे के टिकट का रिजर्वेशन किस तारीख से होने लगेगा। मतलब न आने का प्लान करने वालों को बहुत मुश्किल होने वाली है । किस ट्रेन से आप हाजीपुर पटना या छपरा पहुँच सकते हैं उनके नाम और नंबर भी दिये गए हैं। अशोक और उनकी जीवनसाथी कंचन को खूब सारी बधाई । आप लोग भी अपनी शादी का कार्ड ऐसे ही छपवायें ।

अशोक दास ने पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी करने के बाद एक स्वतंत्र दलित पत्रिका कायम करने का प्रण लिया। अपने अच्छे बुरे दिनों में वे अपने प्रण पर टिके रहे। दलित दस्तक एक लोकप्रिय पत्रिका है। वेबसाइट भी है। बीच में अशोक ने नेशनल दस्तक नाम से एक न्यूज वेबसाइट भी चलाया। उसके उद्घाटन में मुझे बोलने के लिए बुलाया था । हॉल खचाखच भरा था। मैं स्तब्ध हो गया कि इतनी कम उम्र में अशोक ने इतने लोगों को कैसे साध रखा है। ज़रूर उनमें विशिष्ट संगठन क्षमता होगी।

 

मैं बारात निकलने से पहले वाला चमचम और दालमोट मिस करूँगा लेकिन अशोक का लाट चमकता रहे इसकी दुआ करता रहूँगा ।

ashok-das-shadi-card ashok-das-shadi-card2 ashok-das-shadi-card3

Advertisements

One thought on “बहुजन के अपने मीडिया ‘नेशनल दस्तक’ के युवा संस्थापक श्री अशोक दास का हर काम बहुजन/बौद्ध समाज के भले के लिए होता है, देखिये उनकी अपनी शादी का कार्ड जो बौद्धमय भारत मिशन को समर्पित है| प्रस्तुत हैं इस कार्ड पर NDTV के रविश कुमार के विचार | इस शादी के कार्ड की तर्ज पर समाज को अपने कार्ड बनवाने चाहिए …Team SBMT

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s