भारत का अद्वितीय मौर्य शासन काल-ऐसा समय जब आज की नीची जाती कहे जाने वालों के हाथ में शाशन था | इसी समय में “अखण्ड भारत निर्माण” हुआ था और भारत “विश्व गुरु” व “सोने की चिड़िया” कहलाता था।


जानिए —
   भारत का अद्वितीय मौर्य शासन काल….👇👇👇
1.चक्रवर्ती सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य
     323 – 299 ई०पू०
2.सम्राट बिंदुसार मौर्य
    299 – 274 ई०पू०
3. प्रियदर्शी सम्राट अशोक महान
     274 – 234 ई०पू०
4. सम्राट कुणाल मौर्य
     234 – 231 ई०पू०
5. सम्राट दसरथ मौर्य
     231 – 223 ई०पू०
6. सम्राट सम्प्रति मौर्य
     223 – 215 ई०पू०
7. सम्राट शालिशुक मौर्य
     215 – 203 ई०पू०
8. सम्राट देववर्मा मौर्य
     203 – 196 ई०पू०
9. सम्राट सतधन्वा मौर्य
    196 – 190 ई०पू०
10.सम्राट वृहद्रथ मौर्य
     190 – 184 ई०पू०
✍✍✍✍✍✍✍✍
ये है ऐतिहासिक एवं गौरवशाली अखंड भारत में मौर्य वंश के अद्वितीय 10 सम्राटों/राजाओं के सर्वोत्तम शासन काल का विवरण। गौरवशाली सह अद्वितीय मौर्य शासन काल के 139 वर्ष विश्व इतिहास में एक अलग स्थान रखते हैं।
🌻इसी समय में “अखण्ड भारत का निर्माण” हुआ था।
🌻इसी समय में भारत “विश्व गुरु” कहलाता था।
🌻इसी समय में भारत “सोने की चिड़िया” कहलाता था।
🌻इसी 139 वर्षों में भारत “विश्व विजयी” कहलाता था।
🌻इसी समय चन्द्रगुप्त मौर्य के नेतृत्व में विश्व की प्रथम संयुक्त सेना का सफल सह विजयी सेना का निर्माण हुआ था।
🌻इसी समय विश्व में अखंड भारत की सेना सबसे विशाल और अजेय थी।
🌻इसी समय में भारत विदेशी आक्रमणकारियों से भयमुक्त/चिंतामुक्त था।
🌻इसी समय में सिकंदर-सेल्युकस जैसे आक्रमणकारी को चन्द्रगुप्त मौर्य के सामने अपनी हार और भारत की विजय स्वीकार करनी पड़ी थी।
🌻इसी समय में भारत विश्व की सबसे मजबूत समावेशी, मानवीय, सामाजिक, शैक्षिक, आर्थिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक, मैत्री इत्यादि की ताकत होता था।
🌻इसी समय में भारत में विदेशी छात्रों का आगमन शुरू हुआ।
🌻इसी समय में भारत पूरे विश्व में व्यापार की शुरुआत किया।
🌻इसी समय मे सबको शिक्षा, स्वास्थ्य, संपति, समावेशी मौलिक जीवन का समान अधिकार होता था।
🌻इसी समय में समृद्धशाली भारत का निर्माण हुआ।
🌻इसी समय में भारत “प्रबुद्ध भारत” कहलाता था।
🌻इसी समय में भारत सत्य, अहिंसा, करुणा, प्रेम, मैत्री, बंधुत्व, शील, प्रज्ञा इत्यादि से शांतिमय सह सुखमय भारत था।
🌻इसी समय का शासन मानवता, समानता, लोक कल्याणकारी, राष्ट्रीयता, समावेशी समाज सह राष्ट्र विकास पर आधारित था।
🌻इसी समय का “अशोक स्तम्भ” स्वतंत्र भारत का राष्ट्रीय चिन्ह/प्रतीक है। जो प्रत्येक राष्ट्रीय मुद्रा एवं दस्तावेज पर अंकित रहता है।
🌻इसी समय का “सत्यमेव जयते” राष्ट्रीय वाक्य है।
🌻इसी समय का “अशोक चक्र” भारत के तिरंगे में प्रगति प्रतीक नीले रंग में चक्र एवं राष्ट्रीय सम्मान है।
🌻स्वतंत्र भारत का राजकीय पथ “अशोक पथ” एवं केन्द्रीय हॉल “अशोक हॉल” है।
🌻इसी समय का राष्ट्रीय पशु “शेर/सिंह” और राष्ट्रीय पक्षी “मोर” है।
इत्यादि…………………🌻
    🇮🇳 जय भीम -नमो बुद्धाय ! 🌍
🇮🇳 जय सम्राट अशोक महान !🌍
🇮🇳 ! जय मौर्यवंश !🇮🇳
    🇮🇳 जय भारत 🇨🇮
Advertisements

One thought on “भारत का अद्वितीय मौर्य शासन काल-ऐसा समय जब आज की नीची जाती कहे जाने वालों के हाथ में शाशन था | इसी समय में “अखण्ड भारत निर्माण” हुआ था और भारत “विश्व गुरु” व “सोने की चिड़िया” कहलाता था।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s