कांचा इलैया की किताबें आम तौर पर लाखों में बिकती हैं. उनकी जिस किताब Post Hindu India पर विवाद फैलाने की कोशिश हो रही है, उसकी सारी कॉपी अमेजन और फ्लिपकार्ट पर इस हफ्ते देखते ही देखते बिक गईं. स्टॉक खत्म हो गया…Dilip C Mandal


कौन डरता है कांचा से.

कांचा इलैया की इस किताब पर सारा विवाद इसकी हिंदी कॉपी आने के बाद हुआ. इसका पहला मतलब यह है कि नौ साल से इसकी इंग्लिश कॉपी बिक रही है. अमूमन देश भर की लाइब्रेरी में है. लेकिन मूर्खों को कोई दिक्कत नहीं हुई. अब किताब आम जनता तक पहुंच रही है, तो उनको मिर्ची लग गई है.

इस किताब में आखिर ऐसा क्या है?
क्यों लग रही है मिर्ची?

किताब दरअसल भारत के आदिवासी, दलित और पिछड़े समुदायों के श्रम से उपजे ज्ञान का आख्यान है.

पहला चैप्टर बताता है कि किस तरह आदिवासियों ने ज्ञान का सृजन किया.

दूसरा चैप्टर चमार जाति की ज्ञान क्षेत्र में उपलब्धियों को बताता है.

तीसरा चैप्टर महार जाति के ज्ञान सृजन को रेखांकित करता है.

ऐसे ही एक चैप्टर यादव जाति के ज्ञान और अन्य चैप्टर नाई जाति की उपलब्धियों को दर्ज करता है.

कांचा खुद पशुपालक जाति से हैं और मानते हैं कि जो श्रमशील जातियां हैं. वही ज्ञान का सृजन कर सकती हैं. निठल्ले लोग ज्ञान की सृजन नहीं कर सकते.

यह विश्वस्तर पर स्थापित थ्योरी है और कांचा कोई नई बात नहीं कह रहे हैं.

इसलिए आप पाएंगे कि यूरोप में भी ज्यादातर आविष्कार वर्कशॉप और उससे जुड़ी प्रयोगशालाओं में हुए.

भारत में ज्ञान गुरुकुलों में रहा और इसलिए भारत आविष्कारों की दृष्टि से एक बंजर देश है. बिल्कुल सन्नाटा है यहां.

कांचा की किताब के आलोचक यह नहीं बता रहे हैं कि उन्हें मिर्ची किस बात से लग रही हैं. वे बस हाय हाय कर रहे हैं कि बहुत ज्यादा मिर्ची है.

यह सच भी है कि किताब में भरपूर मिर्च है. निठल्ले समुदायों की खाल खींचकर कांचा ने उस खाल को धूप में सुखा दिया है.

कांचा की किताबें आम तौर पर लाखों में बिकती हैं. उनकी जिस किताब Post Hindu India पर विवाद फैलाने की कोशिश हो रही है, उसकी सारी कॉपी अमेजन और फ्लिपकार्ट पर इस हफ्ते देखते ही देखते बिक गईं. स्टॉक खत्म हो गया.

हिंदी अनुवाद ‘हिंदुत्व मुक्त भारत’ नाम से अब भी उपलब्ध है. 250 रुपए की है. खरीद लीजिए. पता नहीं, कल मिले या न मिले.

विचार को रोकने की कोशिश मत करो. कोई फायदा नहीं होगा. यह राख झाड़कर जिंदा हो जाने वाला विचार है.

Dilip C Mandal खरीदिए. हालांकि अभी उपलब्ध नहीं है. https://www.amazon.in/Post-Hindu-India…/dp/817829902X

हिंदी एडिशन खरीद सकते हैं. https://www.amazon.in/Hindutva-Mukt-Bharat…/dp/B06ZZMKWX3

Advertisements

2 thoughts on “कांचा इलैया की किताबें आम तौर पर लाखों में बिकती हैं. उनकी जिस किताब Post Hindu India पर विवाद फैलाने की कोशिश हो रही है, उसकी सारी कॉपी अमेजन और फ्लिपकार्ट पर इस हफ्ते देखते ही देखते बिक गईं. स्टॉक खत्म हो गया…Dilip C Mandal

    • बौद्ध धम्म को आसान हिंदी में समझने के लिए ये चैनल HINDIBUDDHISM सब्स्क्राइब/ज्वाइन करे व अपने सभी सामाजिक भाइयों को भी ज्वाइन करवाएं , लिंक इस प्रकार है :
      https://www.youtube.com/c/HINDIBUDDHISM

      कृपया सब्स्क्राइब/ज्वाइन करना न भूलें

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s