आगरा के पूर्वोदय चक्कीपाट बुद्ध विहार में रखी है बाबा साहेब की अस्थियां


आगरा के पूर्वोदय चक्कीपाट बुद्ध विहार में रखी है बाबा साहेब की अस्थियां

– 13 फरवरी 1957 को बाबासाहेब के पुत्र यशवंत राव अंबेडकर द्वारा उनकी अस्थियां आगरा लाई गईं और पूर्वोदय चक्कीपाट बुद्ध विहार में स्थापित की गयी है ।भदंत ज्ञान रत्न महाथेरा ने बताया कि हर वर्ष छह दिसम्बर को डॉ. अंबेडकर के परिनिवार्ण दिवस पर डॉ. अंबेडकर की अस्थियां जनता के दर्शनार्थ बुद्ध विहार में रखी जाती हैं।

– पूर्वोदय चक्कीपाट बुद्ध विहार की ज़मीन रक्षा विभाग की है और वह इस इतिहासिक बौद्ध विहार को हटाने के लिए बार बार कहता है। भदंत ज्ञान रत्न महाथेरा भारत सरकार से अपील करते हुए कहते है की इस ज़मीन को रक्षा विभाग से ले कर हमे दिया जाये ताकि हम बाबा साहेब की याद में भव्य स्मारक का निर्माण यह करा सके। विहार के हालत अभी खस्ता है

-18 मार्च 1956 को रामलीला मैदान, आगरा में सभा करने के बाद बाबा साहब ने पूर्वोदय चक्कीपाट में तथागत महात्मा बुद्ध की प्रतिमा अपने हाथों से स्थापित की। मूर्ति आज भी पूर्वोदय बुद्ध विहार में देखी जा सकती है।

-जुलाई 1957 को बौद्ध भिक्षु कौडिन्य ने आगरा आकर विशाल बुद्ध विहार का निर्माण कराया। सन 1967 में इसकी देखभाल के लिए बुद्ध विहार प्रबंध समिति बनाई गई, जो वर्तमान में भी इसकी देखरेख का जिम्मा संभाल रही है।

-आगरा पड़ी थी धम्मचक्र परिवर्तन की नीव डॉ. अम्बेडकर ने 18 मार्च, 1956 को रामलीला मैदान में लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा था- ‘अगर मैं आगरा के लोगों की भावनाओं को पहले समझ लेता तो बहुत पहले ही बौद्ध धर्म ग्रहण कर लेता लेकिन अभी भी देर नहीं हुई है। इस छुआछूत और जातिवाद के खात्मे को बौद्ध धर्म ग्रहण करूंगा…..’ आगरा से जाने के बाद उन्होंने नागपुर (महाराष्ट्र) में बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया। उन्होंने धर्म परिवर्तन की नींव आगरा डाली थी।

-दलितों के मसीहा डॉ. भीमराव अंबेडकर की नजर में आगरा बहुत अहम था। वह मानते थे कि पंजाब, महाराष्ट्र के बाद आगरा दलितों का सबसे बड़ा गढ़ है। पहली बार आगरा आगमन में ही डॉ. अंबेडकर ने भांप लिया था कि आगरा दलित आन्दोलन में मील का पत्थर साबित होगा।

-आगरा में अपने ऐतिहासिक भाषण में बौद्ध धर्म को ग्रहण करने की इच्छा जताते डॉ. अंबेडकर ने कहा था कि मैं जिस धर्म को आपको दे रहा हूं, उसका आधारा बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय है। इसमें आत्मा परमात्मा का बखेड़ा नहीं है, न ही खुदा का झगड़ा है, इसमें मानव मात्र का कल्याण है। इसमें समानता, भाईचारा, न्याय और मानवता की सेवा भावना भरी हुई है। इसका आधार असमानता नहीं है। बुद्ध का धम्म इसी भारत की पवित्र भूमि का है।

-पढ़े-लिखे लोगों ने दिया धोखा

डॉ. अंबेडकर के मन एक वेदना थी जो आगरा में बाहर निकलकर आई। उन्होंने रामलीला मैदान में अपना गुस्सा व्यक्त करते हुए कहा कि मैंने लोगों को पढ़ने-लिखने का अधिकार दिलाया। पढ़-लिखकर यह मेरा हाथ बंटाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मैं देख रहा हूं कि मेरे चारों तरफ पढ़े लिखे क्लर्कों की भीड़ इकट्ठी हो गई है, जो सिर्फ अपना पेट पालने में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा था कि जिस समाज में एक आईएएस, दस डॉक्टर और बीस वकील होंगे, तो वह समाज खुद ब खुद सुधर जाएगा। मैंने आशा की थी कि मेरे दलित शिक्षित, अपने दबे कुचले भाइयों की सेवा करेंगे पर मुझे यहां बाबुओं की भीड़ देखकर निराशा हुई है। लेकिन आज जब आप ऊंची नौकरी पर जाएं तो अपने भाइयों को न भूलें।

-बम्बू को रखें मजबूत

डॉ. अंबेडकर ने कहा था कि मैंने संविधान का निर्माण कर पूरे देश की एकता तथा अखंडता को बनाए रखने का काम किया है। आप सभी अपने अधिकारों के लिए संघर्षरत रहें। मैं लाठी लेकर आपके साथ सबसे आगे चलूंगा। उन्होंने समाज के कार्यकर्ताओं को झकझोरते हुए कहा कि इस समाज रूपी तम्बू में बम्बू का काम कर रहा हूं। अगर यह बम्बू गिर गया तो तम्बू की स्थिति स्वंय बिगड़ जाएगी इसलिए बम्बू को मजबूत बनाए रखना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा था कि राजनीति में आपके हिस्सा न लेने का सबसे दंड यह कि आयोग्य व्यक्ति आप पर शासन करेंगे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s