अपने को श्रेस्ट कहने वाले ब्राह्मणों ने ऐसा क्या किया की वो श्रेस्ट कहलाये जाएँ , बाकि के SC/ST/OBC/Minorities ने तो बहुत कुछ किया जिससे उनका देशप्रेम साबित होता है , आइये जाने कौन कैसे श्रेस्ट है

ज़िन्होने खेती बाडी करके अन्न,भोजन,वस्त्र पैदा किया ,वे लोग श्रेष्ठ नहीं !

जिन्होंने चमड़े से जूते, चप्पल बनाने का आविष्कार कर, समस्त मानव जाति के पैरों को सुरक्षित, सुन्दर और निरापद बनाकर समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने सम्पूर्ण पर्यावरण की सफाई करके सुन्दर और स्वच्छ समाज बनाकर समाज की सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने लकड़ी से फर्नीचर (खाट, पलंग, आलमारी, मेज, कुर्सी, दरवाजे आदि) का आविष्कार कर, समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने मिट्टी के बर्तन बनाने का आविष्कार करके समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने  खेती के औजारों का (हल, खुरपी, फावड़ा आदि) आविष्कार करके “अन्न पैदा करने की तकनीक” देकर भूखों मरते, जंगलों में कन्द-मूल और फल के लिए भटकते मानव की, समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने लोहे से “मानव हितकारी यन्त्रों” का आविष्कार किया, साग सब्जी उगाकर या पशु पालन से समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने घर, इमारतें बनाने का आविष्कार करके, प्रकृति और मौसम के क्रूर थपेड़ों से मानव को बचाकर समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहींं।
जिन्होंने रेशम, कपास और तमाम प्राकृतिक रेशों से कपड़े बुनने का आविष्कार कर मानव को जो, जंगलों में नंगे, ठंड और भीषण गर्मी में पेड़ की छाल पत्ते और मरे जानवरों की खाल लपेटने को बाध्य था, को सुन्दर वस्त्र देकर सभ्य और सुसंकृत बनाकर समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन्होंने नौकायें और बड़ी-बड़ी पानी के जहाज बनाकर यातायात को सरल बनाकर पूरे मानव सभ्यता को उन्नतिशील और ऐश्वर्यपूर्ण बनाकर, समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहीं।
जिन शिल्पकारों ने मिट्टी पत्थरों और तमाम प्राकृतिक संसाधनों से श्रेष्ठ, कलात्मक मूर्तियों का निर्माण करके इस समाज और दुनिया को कला और संस्कृति की अनन्त ऊँचाइयों पर पहुँचाकर कर समाज सेवा की, वे लोग श्रेष्ठ नहींं।
लेकिन जिन्होने लंबे समय से समाज को अंधविश्वास, ढकोसले, पाखंण्ड, लोक-परलोक, स्वर्ग-नरक, पाप-पुण्य, मोक्ष प्राप्ति, कपोल-राशिफल,कल्पित भविष्य-फल, पुनर्जन्म, जातिवाद, छूआ-छूत, अश्पृश्यता आदि नारकीय तमाम ढकोसलों के सहारे समाज को पीछे ढकेलकर समाज को अकर्मण्यता और भाग्यवादी बनाकर कर पीछे की तरफ ढकेलने वाले,  वे ही आज तथाकथित जातिमात्र से श्रेष्ठ है, यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।
भारत टैक्नोलोजी में पीछे इसी वजह से है कि यहां “नॉन टैक्निकल” जातियां, श्रेष्ठ और प्रभावशाली रहीं हैं और “टैक्निकल” जातियां भेदभाव से शोषित रहीं है।
#jaiyoddhey

मंदिर/न्यायालयों/राजनीती के आलावा लगभग हर जगह में ब्राह्मणों का,बिजनेस/धंधे/दुकानों में बनियों का,जमीन जायदाद दबंगई में ठाकरों के धार्मिक/जातीवादी आरक्षण का जवाब है संवैधानिक आरक्षण, अगर वो जातिवादी आरक्षण न हो तो संवैधानिक आरक्षण की जरूरत ही नहीं ,आओ आरक्षण के गणित को आसान उदाहरण से समझे

मंदिर/न्यायालयों/राजनीती के आलावा लगभग हर जगह में ब्राह्मणों का,बिजनेस/धंधे/दुकानों में बनियों का,जमीन जायदाद दबंगई में ठाकरों के धार्मिक/जातीवादी आरक्षण का जवाब है संवैधानिक आरक्षण, अगर वो जातिवादी आरक्षण न हो तो संवैधानिक आरक्षण की जरूरत ही नहीं
आरक्षण* बहुत सही गणित है ,जरा ध्यान दे हमारे गणित पर ।
माना कि 100 व्यक्ति हैं।
और इन 100 व्यक्तियों कोे खाने के लिए 100 रोटियां हैं।
वर्तमान में पिछड़ी जाति *OBC* के *60* व्यक्तियों को खाने के लिए *27* रोटियों की व्यवस्था है।
इसी तरह अनुसूचित जाति *SC* व जनजाति *ST* के *25* व्यक्तियों के एक समूह के लिए *22.5* रोटियों की व्यवस्था है।
अब सामान्य वर्ग के तकरीबन *15 आदमियों* के लिए *50* रोटियां शेष बचती हैं।
पर समस्या ये है कि सामान्य वर्ग *GENERAL* के *15* आदमियों में से *3% ब्राम्हण* जाति के आदमी बेहद *शक्तिशाली* हैं जो शेष बची *50 रोटियों* में से लगभग *45 रोटियां* खा जा रहे हैं।
अब समस्या ये है कि *सामान्य वर्ग के 12* आदमियों के लिए मुश्किल से सिर्फ *5 रोटियां* ही मिल पा रहीं है।
इसी कारण सामान्य जाति के जाट, मराठा, लिंगायत, पटेल या पाटीदार अपने लिए *OBC* की *27 रोटियों* में हिस्सेदारी मांग रहे हैं।
अब समस्या ये है कि *ओबीसी के 60* लोग वैसे ही सिर्फ *27 रोटियों* पर गुजारा करके अपनी जिंदगी चला रहे हैं ऐसे में वो जाट, मराठा और लिंगायत में अपने हिस्से की *27 रोटियां* बांटने को हरगिज तैयार नही हैं।
इस *समस्या* का एक ही *समाधान* है कि कोर्ट द्वारा निर्धारित की गई *50% आरक्षण* की सीमा रेखा को लांघा जाऐ और जाट, मराठा, और लिंगायत के साथ साथ सभी जातियों को उनकी संख्या के अनुपात में शिक्षा & नौकरियों में आरक्षण दिया जाऐ।
अब *60 लोगों* के हिस्से की *27 रोटियों* पर *झपट्टा मारने* से बात नही बनेगी ।
जरूरत इस बात की है कि सारी पिछड़ी जाति *OBC* के लोग *और जाट, गूजर , अहीर , यादव , गडरिया , सुनार, लोहार , कुम्हार , कश्यप , निसाद , कुशवाहा , सैनी माली , मराठा, लिंगायत, पटेल आदि एक मंच पर आऐं* और *उन 3% ब्राम्हण* लोगों से अपना हिस्सा छीने जो सिर्फ 3% होकर 45 रोटियां तोड़े जा रहे हैं।
अगर ये *ब्राह्मण* जाति के *3* लोग *सिर्फ 3 रोटी* खाकर जीना सीख ले तो *समाज मे कोई भी भूखा नहीं रहेगा।
अच्छा लगे तो हर ग्रुप में, SC/ST व पिछड़ा वर्ग OBC के प्रत्येक कॉन्टेक्ट पर कई बार भेजो।
अगर आरक्षण का गणित अभी नहीं समझेंगे तो कभी नहीं समझेंगे आप। इससे आसान उदाहरण नहीं मिलेगा।
 
जो लोग मानते हो की आरक्षण की वजह से ही देश बर्बाद हुआ है, तो फिर यह पोस्ट सिर्फ उनके लिए ही है….जरूर पढ़ें!
*”लश्कर भी तुम्हारा है, सरदार भी तुम्हारा है।*
*तुम झूठ को सच लिख दो अखबार भी तुम्हारा है।*
*तुम जो कहो वो सच, हम जो कहें वो झूठ*
*मुल्क में नफरत का ऐसा तूफान मचा ड़ाला है।”*
*कुछ बुद्धिमान बोलते है कि आरक्षण ने देश को बर्बाद कर दिया”*
*☄(1) अब आप बताइये कि देश आजाद होने के बाद 14 व्यक्ति देश के राष्ट्रपति बने उनमे से कितने आरक्षण वाले बने….*
*☄(2) 15 प्रधानमन्त्री बने उनमे से कितने आरक्षण वाले बने…*
*☄(3) 43 उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायधीश बने कितने आरक्षण वाले बने…*
*☄(4) 19 मुख्य चुनाव आयुक्त बने उनमे से कितने आरक्षण वाले बने…*
*☄(5) देश के जो बड़े घोटाले हुए उनमे कितने ओबीसीे SC/ST घोटालेबाज हैं, बताएं ज़रा…*
*☄(6) आप बताइये भारत देश में कितने SC/ST लोग ऐसे बड़े कॉर्पोरेट घरानों के व्यवसायी हैं, जो देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं ?*
*☄(7) अब आप बताइये देश को बर्बाद कौन कर रहा है….अगर सम्भावित ब्लैकमनी वालो की लिस्ट देखें तो कोई आरक्षण वाला नजर नही आता…*
*☄(8) तो फिर देश को बर्बाद कौन कर रहा है..*
*☄(9) जितने लोग बेंको का रूपया हज़्म करके बैठे है या भाग गए उनमे कितने आरक्षण वाले है शायद कोई नही तो फिर देश को बर्बाद कौन कर रहा है….*
*☄(10) बड़े बड़े ठेकेदार जो सरकारी ठेके लेते है रोड बनाते है सरकारी बिल्डिंग्स बनाते है उनमे कितने आरक्षण वाले है तो जवाब मिलेगा 1 या 2 % ।*
*☄(11) तो फिर इस देश को बर्बाद आरक्षण कर रहा है या फिर मेरिट वाले…*
*☄(12) जब ब्लैक मनी लिस्ट में एक भी नाम रिजर्व कैटेगरी के लोगों का नही, सारे नाम जनरल के हैं । फिर भी कुछ बेवकूफ कहते हैं कि देश को रिजर्वेशन वाले बर्बाद कर रहे हैं….सच में इससे बड़ा जोक कोई और हो ही नही सकता !!*
*☄(13) बोफोर्स तोप घोटाला, कॉमन वैल्थ घोटाला, आदर्श सोसायटी घोटाला, सत्यम घोटाला, काला धन घोटाला, स्टाम्प घोटाला, यूरिया घोटाला,  सुखराम टेलिकॉम घोटाला, शेयर घोटाला, चीनी घोटाला….बहुत लंबी सूची है इन घोटालों की, ये सभी घोटाले क्या आरक्षण प्राप्त लोगों ने किये हैं ? बताएँगे इसमें किसी ST/SC का नाम ?*
*☄कब तक बेवकूफ बनाते रहोगे*
*☄और हाँ ! फिर भी हम लोग अपने हुनर और काबलियत से थोडा सा आरक्षण का सहारा पा कर क्या कामयाब होने लगे, आपके पेट में मरोड़े उठने लगे….*
*☄” जिनको अपनी थोथी मेरिट पे घमंड है और आरक्षण से परेशानी है वो अपने बच्चों को 5 साल वहाँ पढ़ाए जहाँ ग़रीब और किसानों के बच्चे अभावों में रहकर पढ़ते हैं,*
*☄फिर देखना सारी मेरिट हवा न हो जाए तो कहना !!!”*
*और यदि कुछ तथाकथित उच्चवर्ग के लोग ये कहते हैं की, वो किसी से भेदभाव नही करते….तो उनसे एक ही सवाल ?*
*☄क्या वो SC/STपरिवार से रोटी – बेटी का रिश्ता करने को तैयार हैं, जातियाँ खत्म करने को तैयार है।। अगर नही…*
*☄तो फिर मान लीजिये अभी आरक्षण ख़त्म नही होना चाहिए…*
*🙏निवेदन एवं आग्रह 🙏*
*☄आपको सिर्फ 10 लोगो को ये मेसेज फॉरवर्ड करना है और वो 10 लोग भी दुसरे 10 लोगों को मेसेज करें ।*
*इस प्रकार*
*1 = 10 लोग*
*यह 10 लोग अन्य 10 लोगों को मेसेज करेंगे*
*इस प्रकार :-*
*10 x10 = 100*
*100×10=1000*
*1000×10=10000*
*10000×10=100000*
*100000×10=1000000*
*1000000×10=10000000*
*10000000×10=100000000*
*100000000×10=100000 number but 0000 (100 करोड़ )*
*🔹बस आपको तो एक कड़ी जोड़नी है देखते ही देखते सिर्फ आठ steps में पूरा देश जुड़ जायेगा।*

बाबा साहेब डॉ आंबेडकर के रास्ते पर चलते हुए बहुजनों के अधिकारों और संम्मान के लिए डॉ बी पी अशोक (अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस प्रशिक्षण निदेशालय, उत्तर प्रदेश) ने राष्ट्रपति को भेजा अपना इस्तीफा।

मित्र डॉ. बी. पी. अशोक के साहस को सलाम, अभिनंदन!

🇮🇳बाबा साहेब डॉ आंबेडकर के रास्ते पर चलते हुए बहुजनों के अधिकारों और संम्मान के लिए डॉ बी पी अशोक (अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस प्रशिक्षण निदेशालय, उत्तर प्रदेश) ने राष्ट्रपति को भेजा अपना इस्तीफा।

इन संवैधानिक मांगों को माना जाए या मेरा त्यागपत्र स्वीकार किया जाए।🇮🇳

1. एससी-एसटी एक्ट को कमजोर किया जा रहा है। उसे बचाएं।
2. संसदीय लोकतंत्र को बचाएं । रूल ऑफ़ जज और रूल ऑफ पुलिस के स्थान पर रूल ऑफ़ लॉ का सम्मान किया जाए।
3. महिलाओं को पर्याप्त प्रतिनिधित्व दिया जाए।
4. महिलाओं /SC/ ST/ OBC/ माइनॉरिटी को उच्च न्यायालयों में अभी तक प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया ।
5. प्रोन्नति में पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं है ।
6. श्रेणी 4 से श्रेणी 1 तक साक्षात्कार, युवाओं में आक्रोश पैदा करते हैं सभी साक्षात्कार खत्म किए जाएं ।
7. जाति के खिलाफ स्पष्ट कानून बनाया जाए।

*अब नहीं तो कब, हम नहीं तो कौन!

 

 

एससी-एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम 1989 को निष्प्रभावी करने के विरोध में 2 अप्रैल के भारत बंद किया गया, आइये जाने कहाँ क्या हुआ, भारत बंद के हाइलाइट्स| भाजपा सरकार कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यु पेटिशन दायर करेगी

जब लीडर होता है आर्गेनाईजेशन होता है उनके बुलावे पर लोग आते हैं उसको आंदोलन कहते हैं
अगर कोई किसी को नहीं बुलाता है लोग अपने आप सड़क पर उतर आते हैं तो उसको जन आंदोलन कहते हैं.
आरएसएस/मोदी/भाजपा सरकार कोर्ट के फैसले के खिलाफ रिव्यु पेटिशन दायर करेगी
जितना संगर्ष कर लोगे उतना पा लोगे
भारत बंद
पन्जाब मे CBSE की परीक्षा रद्द
भारत बंद
मुजफ़्फ़रनगर में पुलिस ने फ़ायरिन्ग की
भारत बंद
म प्र के भिन्ड मुरैना ग्वालियर सागर में कर्फ़्यू
भारत बंद
अलवर के दाउदपुर मे रेल पटरी उखाडी, पाच ट्रेने फ़सी ,पुलिस फ़ायरिन्ग मे तीन घायल,
भारत बंद
मेरठ मे तीन बसे फ़ूकी, कन्करखेडा मे पुलिस चौकी आग के हवाले
भारत बंद
जयपुर बन्द के दौरान व्यापारियो से हिन्सक झडप
भारत बंद
बिहार का गान्धी सेतु पटना जाम
भारत बंद
दिल्ली देहरादून हाईवे जाम
भारत बंद
दिल्ली के मन्डी हाउस पर हिन्सक प्रदर्शन
भारत बंद
मुजफ़्फ़रनगर के नई मन्डी थाने पर पथराव
भारत बंद
बाडमेर मे दलित संगठनॊ से करणी सेना की झडप, करणी सेना नहीं करने दे रही बन्द, आगजनी,
भारत बंद
मेरठ मे छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के शीशे तोडे
भारत बंद
राजस्थान के सीकर मे हिन्सक झडप
भारत बंद
गुजरात में शान्ति पूर्ण बन्द, अहमदाबाद में बन्द के समर्थन में एक दलित ने अपनी हाथ की नस काटी
भारत बंद
एम पी के मुरेना मे गोली लगने से छात्र नेता की मौत
भारत बंद
एम पी के ग्वालियर में भी बन्द के दौरान एक व्यक्ति की मौत
भारत बंद
बन्द के चलते भाजपा के दलित नेता पसीना पसीना,
भारत बंद
मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में शान्ति पूर्ण बन्द
भारत बंद
मेरठ मे प्रदर्शनकारी को गोली लगी, पेट में लगी गोली, हालत गंभीर
भारत बंद
गाजियाबद मे रेल पटरी उखाडी, 13 ट्रेन विलम्बित
भारत बंद
बिहार के जहानाबाद में आगजनी,
भारत बंद
बिहार के फ़ारबिस गन्ज में रेल रोकी
भारत बंद
रांची में हिन्सक झडप
भारत बंद
आरा में हाईवे जाम
भारत बंद
पटना में आगजनी
भारत बंद
आरजेडी के सान्सद पप्पू यादव नीला झन्डा लेकर सडक पर उतरे
भारत बंद
नवादा में रेल रोकी
भारत बंद
अररिया में रेल रोकी
भारत बंद
पूरा उ प्र बन्द की चपेट में,
दलितो की राजधानी आगरा में  रेल रोकी, बीस से अधिक ट्रेने प्रभावित
जय भीम नमो बुध्दाय
भारत बंद…..